संदेश

March, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जो है जज़्बात में मौजों सी तुग़यानी, नहीं जाती

जो है जज़्बात में मौजों सी तुग़यानी, नहीं जाती किसी सूरत हमारी दिल की सुल्तानी नहीं जाती
उसे गुज़रे हुए यूँ तो, ज़माना हो चुका है अब मगर वो बेवफ़ा है, बात ये मानी नहीं जाती
न जाने कौन सी मंजिल पे आ पहुंचा सफ़र अपना जहाँ ख़ुद अपनी भी आवाज़ पहचानी नहीं जाती
तअस्सुब से कोई तामीर मुमकिन ही नहीं साहब मोहब्बत की ये मिट्टी बैर से सानी नहीं जाती
बिगड़ कर रह गया दिल मस्लेहत की ऐश-ओ-इशरत में जहान-ए-रंज-ओ-ग़म की ख़ाक अब छानी नहीं जाती
चलन तो आम है फ़ितनागरी का इस ज़माने में मगर अब तक हमारे दिल की हैरानी नहीं जाती
तिजारत का ज़माना है कि बिक जाता है ईमाँ भी बताओ, किस के घर रिश्वत की बिरयानी नहीं जाती
छुपा लो तुम ही ख़ुद को सैकड़ों पर्दों में ख़ातूनो ज़माने की निगाहों से तो उरियानी नहीं जाती
गुज़र जाने दें तूफाँ को, ज़रा झुक कर, तो बेहतर है ये जिद बेकार की "मुमताज़" अब ठानी नहीं जाती

जज़्बात-भावनाएं, मौजों सी-लहरों सी, तुगियानी-हलचल, तअस्सुब-तरफदारी, अना-अहम्, तिजारत – व्यापार, ख़ातूनो – औरतों,  उरियानी – नंगापन 

वो सितमगर आज हम पर वार ऐसा कर गया

वो सितमगर आज हम पर वार ऐसा कर गया ये सिला था हक़परस्ती का कि अपना सर गया
रूह तो पहले ही उसकी मर चुकी थी दोस्तो एक दिन ये भी हुआ फिर, वो जनाज़ा मर गया
वो लगावट, वो मोहब्बत, वो मनाना, रूठना ऐ सितमगर तेरे हर अंदाज़ से जी भर गया
ताक़त-ओ-जुरअत सरापा, नाज़-ए-शहज़ोरी था जो जाने क्यूँ दिल के धड़कने की सदा से डर गया
एक लग़्ज़िश ने ज़ुबाँ की जाने क्या क्या कर दिया तीर जो छूटा कमाँ से काम अपना कर गया
सर झुकाए आज क्यूँ बैठा है तू ऐ तुंद ख़ू कजकुलाही क्या हुई तेरी, कहाँ तेवर गया
एक उस लम्हे को दे दी हम ने हर हसरत कि फिर ज़िन्दगी से सारी मस्ती, हाथ से साग़र गया
ऐ तमन्ना, तेरे इस एहसान का बस शुक्रिया हर अधूरे ख़्वाब से “मुमताज़” अब जी भर गया

हक़परस्ती - सच्चाई की पूजा, जुरअत – हिम्मत,  सरापा – सर से पाँव तक, नाज़-ए-शहज़ोरी – तानाशाही का गौरव, लग़्ज़िश – लड़खड़ाना, तुंद ख़ू – बद मिज़ाज, कजकुलाही – स्टाइल, साग़र – प्याला (शराब का)

गुज़ारा हो नहीं सकता हमारा कमज़मीरों में

गुज़ारा हो नहीं सकता हमारा कमज़मीरों में यही इक ख़ू ग़लत है हम मोहब्बत के सफ़ीरों में
हुकूमत है हमारी दिल की दुनिया के अमीरों में है दिल सुल्तान लेकिन है नशिस्त अपनी फ़क़ीरों में
लहू बन कर रवाँ वो जिस्म की रग रग में था शायद ख़ुदा ने लिख दिया था उसको हाथों की लकीरों में
कोई दीवाना शायद रो पड़ा है फूट कर यारो क़फ़स की तीलियाँ जलती हैं, हलचल है असीरों में
तमाशा देखता है जो खड़ा गुलशन के जलने का वो फ़ितनासाज़ भी रहता है अपने दस्तगीरों में
अना कोई, न है पिनदार, ग़ैरत है, न ख़ुद्दारी ज़ईफ़ी ये कहाँ से आ गई अपने ज़मीरों में
इरादा क्या है, जाने कश्तियाँ वो क्यूँ बनाता है वो शहज़ादा जो रहता है मेरे दिल के जज़ीरों में
सदा है, चीख़ है, इक दर्द है,“मुमताज़” मातम है लहू की धार है सुर की जगह अबके नफ़ीरों में

ख़ू – आदत, सफ़ीरों में – प्रतिनिधियों में, नशिस्त – बैठक, क़फ़स – पिंजरा, असीरों – क़ैदियों, दस्तगीरों – दिलासा देने वालों, पिनदार – इज़्ज़त, ज़ईफ़ी – कमज़ोरी, नफ़ीरों - बांसुरियों 

नारसा ठहरीं दुआएँ इस दिल-ए-नाकाम की

नारसा ठहरीं दुआएँ इस दिल-ए-नाकाम की डूबती ही जा रही है नब्ज़ तश्नाकाम की
ये तड़प, ये दर्द, ये नाकामियाँ, ये उलझनें कोई भी सूरत नज़र आती नहीं आराम की  
सारे आलम की तबाही एक इस उल्फ़त में है कोई तो आख़िर दवा हो इस ख़याल-ए-ख़ाम की
छीन ली बीनाई मेरी एक इस ज़िद ने कि फिर देखा कुछ हमने न कुछ परवाह की अंजाम की
कोशिशें नाकाम सारी, हर तमन्ना तश्नालब हम पे पैहम है इनायत गर्दिश-ए-अय्याम की
हैफ़, क़िस्मत के इरादे किस क़दर बरबादकुन इसने हर तदबीर मेरी आज तक नाकाम की
एक अदना सी तमन्ना, इक मोहब्बत का सफ़र ज़िन्दगी की ये मुसाफ़त थी फ़क़त दो गाम की
थम गई “मुमताज़” वो धड़कन तो हस्ती चुक गई एक धड़कन वो जो थी जानम तुम्हारे नाम की

तश्नाकाम – प्यासा, ख़याल-ए-ख़ाम – झूठा ख़याल, पैहम – लगातार, अय्याम – दिन, हैफ़ – आश्चर्य है  

हमसफ़र खो गए

हमसफ़र खो गए
ज़िन्दगी की सुहानी सी वो रहगुज़र साथ साथ आ रहे थे मेरे वो मगर आज जाने हुआ क्या, मुझे छोड़ कर हाथ मुझ से छुड़ा कर वो गुम हो गए
मैं भटकती रही जुस्तजू में यहाँ और रोती रहीं मेरी तन्हाइयाँ पर चट्टानों से टकरा के लौट आई जब टूटते दिल के टुकड़ों की ज़ख़्मी सदा ज़िन्दगी की सुहानी सी वो रहगुज़र एक तीराशबी का सफ़र हो गई रौशनी के सभी शहर गुम हो गए और मैं एक मुर्दा खंडर हो गई
ऐ मेरे हमसफ़र मेरी खोई हुई राह के राहबर देख ले, मैं अकेली हूँ इस मोड़ पर और मेरे लिए आज हर इक सफ़र
इन अँधेरों का लंबा सफ़र हो गया  

गर तसव्वर तेरा नहीं होता

गर तसव्वर तेरा नहीं होता दिल ये ग़ार-ए-हिरा नहीं होता
एक दिल, एक तसव्वर तेरा बस कोई तीसरा नहीं होता
पास-ए-माज़ी ज़रा जो रख लेते वो नज़र से गिरा नहीं होता
होता वो मस्लेहत शनास अगर हादसों से घिरा नहीं होता
ये तो हालात की नवाज़िश है कोई क़स्दन बुरा नहीं होता
दिल को आ जाती थोड़ी अक़्ल अगर आरज़ू से भरा नहीं होता
गुलशन-ए-दिल उजड़ के ऐ “मुमताज़”
फिर कभी भी हरा नहीं होता 

ये क्या कि अब तो दर्द भी दिल में नहीं रहा

ये क्या कि अब तो दर्द भी दिल में नहीं रहा ये कौन सा मक़ाम मोहब्बत में आ गया
बेहिस हुई उम्मीद, तमन्नाएँ मर चुकीं इक ज़ख़्म-ए-ज़िन्दगी था सो वो भी नहीं रहा
यूँ तो तमाम हो ही चुकीं बाग़ी हसरतें फिर भी कहीं है रूह में इक शोर सा बपा
लगता है इख़्तेताम पे आ पहुंचा है सफ़र बोझल है जिस्म, कुंद नज़र, दिल थका थका
माज़ी की धूल छाई है दिल के चहार सू दिन तो चढ़ आया, आज ये कोहरा नहीं छँटा
“मुमताज़” इस ख़ुलूस ने क्या क्या किया है ख़्वार
इस लाइलाज रोग की क्या कीजिये दवा

वो तेवर क्या हुए तेरे, कहाँ वो नाज़ ए पिन्दारी

वो तेवर क्या हुए तेरे, कहाँ वो नाज़ ए पिन्दारी न वो जलवा, न वो हस्ती, न वो तेज़ी, न तर्रारी
मिटा डालेगा तुझ को ये तेरा अंदाज़ ए सरशारी कहीं का भी न छोड़ेगी तुझे तेरी ये ख़ुद्दारी
वही दिन हैं, वही रातें, वही रातों की बेदारी वही बेहिस तमन्ना, फिर वही हर ग़म से बेज़ारी
न आया अब तलक ये एक फ़न हम को छलावे का लगावट की सभी बातें, मोहब्बत की अदाकारी
ये शिद्दत बेक़रारी की, ये ज़ख़्मी आरज़ू दिल की कटीं यूँ तो कई रातें, मगर ये रात है भारी
हक़ीक़त है, मगर फिर भी ज़माना भूल जाता है जला देती है हस्ती को मोहब्बत की ये चिंगारी
ये दुनिया है, यहाँ है चार सू बातिल का हंगामा छुपाती फिर रही है मुंह यहाँ सच्चाई बेचारी
मोहब्बत बिकती है, फ़न बिकता है, बिकती है सच्चाई ये वो दौर ए तिजारत है, के है हर फर्द ब्योपारी
ग़रज़, मतलब परस्ती, बेहिसी, "मुमताज़" बेदीनी वतन को खाए जाती है यही मतलब की बीमारी

नाज़ ए पिन्दारी-गर्व के नखरे, अंदाज़ ए सरशारी- मस्ती का अंदाज़, बेदारी-जागना, बेहिस तमन्ना-बेएहसास इच्छा, बेज़ारी- ऊब, फ़न-कला, अदाकारी-अभिनय, शिद्दत-तेज़ी, चार सू-चारों तरफ, बातिल-झूठ, तिजारत-व्यापार, फर्द- व्यक्ति

ज़िन्दगी का हर इरादा कैसा फ़ितनाकाम है

ज़िन्दगी का हर इरादा कैसा फ़ितनाकाम है पेशतर नज़रों के हस्ती का हसीं अंजाम है
खो गए जाने कहाँ वो क़ाफ़िले, और अब तो बस एक हम हैं, इक हमारी ज़िन्दगी की शाम है
ख़ाली दिल, ख़ाली उम्मीदें, ख़ाली दामन, ख़ाली हाथ एक सरमाया हमारा ये ख़याल-ए-ख़ाम है
बेरुख़ी, नफ़रत, अदावत, हर अदा उनकी बहक़ हम ने पाला है अना को हम पे ये इल्ज़ाम है
ये जहान-ए-आरज़ू अपने लिए बेकार है हमको तो अपनी इसी बस बेख़ुदी से काम है
एक हल्की सी शरारत, एक मीठा सा सुकूँ लम्हा भर का ये सफ़र इस ज़ीस्त का इनआम है
बढ़ चले हैं मंज़िलों की सिम्त फिर अपने क़दम दूर मुँह ढाँपे खड़ी वो गर्दिश-ए-अय्याम है
चार पल में कर चलें “मुमताज़” कुछ कारीगरी लम्हा लम्हा ज़िन्दगी का मौत का पैग़ाम है

ख़याल-ए-ख़ाम – झूठा ख़याल, बहक़ – जायज़ 

एक छोटी सी पैरोडी

नेट पर हम तुम्हें क्या बताएँ किस क़दर चोट खाए हुए हैं फ़ेसबुक से मिटाए गए हैं व्हाट्स अप के सताए हुए हैं
आज तक हम कभी न नहाए मैले कपड़े पहन कर हम आए आज ही हम ने बदले हैं कपड़े
आज ही हम नहाए हुए हैं 

साँस ख़ामोश है, जाँकनी रह गई

साँस ख़ामोश है, जाँकनी रह गई एक तन्हा शमअ बस जली रह गई
कारवाँ तो ग़ुबारों में गुम हो गया इक निगह रास्ते पर जमी रह गई
ले गया जाते जाते वो हर इक निशाँ बस मेरी आँख में इक नमी रह गई
ऐसी बढ़ती गईं ग़म की तारीकियाँ मुँह छुपाती हुई हर ख़ुशी रह गई
उस ने जाते हुए मुड़ के देखा नहीं एक ख़्वाहिश सी दिल में जगी रह गई
वक़्त के धारों में हर निशाँ धुल गया एक तस्वीर दिल पर बनी रह गई
मिट गई वक़्त के साथ हर दास्ताँ याद धुंधली सी है जो बची रह गई
उसने “मुमताज़” हमको जो बख़्शी थी वो आरज़ू की अधूरी लड़ी रह गई

जाँकनी – आख़िरी वक़्त, तारीकियाँ – अँधेरे

हौसला जिस दिन से तेरा बेतकाँ हो जाएगा

हौसला जिस दिन से तेरा बेतकाँ हो जाएगा आस्माँ उस रोज़ तेरा पासबाँ हो जाएगा
अपनी हस्ती को मिटा डाला था जिसके वास्ते क्या ख़बर थी वो भी इक दिन बदगुमाँ हो जाएगा
कर्ब को इक हुस्न दे दे, ज़ख़्म कर आरास्ता रास्ते का हर नज़ारा ख़ूँचकाँ हो जाएगा
सर्द कर दे आग दिल की वर्ना इक दिन हमनशीं तेरा हर इक राज़ चेहरे से अयाँ हो जाएगा
ये लहू मक़्तूल का भी रंग लाएगा ज़रूर ऐ सितमगर तू भी इक दिन बेनिशाँ हो जाएगा
फ़ैसला वो जिसको हमने दे दी सारी ज़िन्दगी किसने सोचा था कि इक दिन नागहाँ हो जाएगा
सोच लो “मुमताज़” सौ सौ बार क़ब्ल-ए-आरज़ू इस अमल से तो तुम्हारा ही ज़ियाँ हो जाएगा

बेतकाँ – अनथक, पासबाँ – रक्षक, कर्ब – दर्द, आरास्ता – सजा हुआ, ख़ूँचकाँ – ख़ून टपकता हुआ, हमनशीं – साथ बैठने वाला, अयाँ – ज़ाहिर, मक़्तूल – जिसका ख़ून हुआ हो, नागहाँ – अचानक, क़ब्ल-ए-आरज़ू – इच्छा से पहले, अमल – काम, ज़ियाँ – नुक़सान 

पलट के दूर से अक्सर सदाएं देता है

पलट के दूर से अक्सर सदाएं देता है तलब तो ज़हर की है, वो दवाएं देता है
पलट के आ कभी इस सिम्त अब्र ए आवारा तुझे सुलगता ये सहरा सदाएं देता है
लिबास उतार के हर बार ज़र्द पत्तों का नई, दरख्तों को मौसम क़बाएं देता है
अजीब ढंग से करता है दुश्मनी वो भी कि ज़िन्दगी कि मुझे वो दुआएं देता है
बुझाते फिरते हैं जो लोग हस्तियों के चिराग़ उन्हें भी मेहर ये अपनी शुआएँ देता है
सुनाई देती है आहट बहार की जब भी वो मेरी रूह को सौ सौ खिजाएँ देता है
ज़रा सी बुझने जो लगती है दिल की आग कभी ग़म ए हयात उसे फिर हवाएं देता है
है जिस की रूह भी "मुमताज़" तार तार बहुत वो शख्स नंगे सरों को रिदाएँ देता है

इस सिम्त- इस तरफ, अब्र-ए-आवारा-आवारा बादल, सहरा- रेगिस्तान, ज़र्द पत्तों का- पीले पत्तों का, क़बाएं- पोशाकें, मेहर- सूरज, शुआएँ- किरणें, खिजाएँ- पतझड़, हयात-ज़िंदगी, रूह-आत्मा, रिदाएँ- चादरें 

ज़ब्त की हद से गुज़र कर जब तकानें आ गईं

ज़ब्त की हद से गुज़र कर जब तकानें आ गईं शम्स की ज़द में बलन्दी की उड़ानें आ गईं
फिर सफ़र में आज वो इक मोड़ ऐसा आ गया याद हमको कुछ पुरानी दास्तानें आ गईं
फिर वही रंगीं ख़ताएँ, लज़्ज़त-ए-ईमाँशिकन आज फिर दाँतों तले अपनी ज़बानें आ गईं
इक परिंदे ने अभी खोले ही थे उड़ने को पर हाथ में हर इक शिकारी के कमानें आ गईं
रंग रौग़न से सजे बीमार चेहरों की क़तार बिकती है जिनमें मोहब्बत वो दुकानें आ गईं
हर क़दम पर अपनी ही ख़ुद्दारियाँ हाइल रहीं रास्ता आसान था लेकिन चट्टानें आ गईं
फ़िक्र बेटी की लिए इक बाप रुख़सत हो गया ज़ुल्फ़ में चांदी, उठानों पर ढलानें आ गईं
बेहिसी “मुमताज़” दौर-ए-मस्लेहत की देन है ज़द में माल-ओ-ज़र के अब इंसाँ की जानें आ गईं

ज़ब्त – सहनशीलता, तकानें – थकानें, शम्स – सूरज, ख़ताएँ – भूलें, लज़्ज़त-ए-ईमाँशिकन – ईमान को तोड़ देने वाला मज़ा, हाइल – अडचन, माल-ओ-ज़र – दौलत और सोना 

ख़्वाबों के बाज़ार सजाए बैठे हैं

ख़्वाबों के बाज़ार सजाए बैठे हैं कितने हैं जो घात लगाए बैठे हैं
हश्र बपा है, रक़्स-ए-शरर है बस्ती में हम घर की ज़ंजीर लगाए बैठे हैं
ज़ीस्त का मोल चुकाएँ इतनी ताब नहीं अरमानों को दिल में दबाए बैठे हैं
सुबह-ए-दरख़्शाँ आएगी इस आस पे हम इन राहों पर आँख बिछाए बैठे हैं
क़ीमत छोड़ो, जाँ की भीख ही मिल जाए कब से हम दामन फैलाए बैठे हैं
धरती पर फिर उतरेगा ईसा कोई ख़्वाबों की क़ंदील जलाए बैठे हैं
इक दिन तो “मुमताज़” ये क़िस्मत चमकेगी ख़ुद को ये एहसास दिलाए बैठे हैं

रक़्स-ए-शरर – चिंगारियों का नृत्य, ज़ीस्त – ज़िन्दगी, ताब – ताक़त, सुबह-ए-दरख़्शाँ – चमकदार सुबह 

अपने आप में गुम हो जाना अच्छा लगता है

अपने आप में गुम हो जाना अच्छा लगता है दिल को अब यूँ भी बहलाना अच्छा लगता है
सौदे में ईमाँ के जिस दम घाटा हो जाए ख़्वाबों के बाज़ार सजाना अच्छा लगता है
यादों की गलियों से हो कर अक्सर जाते हैं खंडर सा इक घर वो पुराना अच्छा लगता है
माज़ी की खिड़की से दो पल झांक के देखो तो बचपन का बेबाक ज़माना अच्छा लगता है
सारी उम्र का दुश्मन ठहरा, इस पे रहम कैसा इस बेहिस दिल को तड़पाना अच्छा लगता है
जब शोले जज़्बात के मद्धम पड़ने लगते हैं अरमानों में हश्र उठाना अच्छा लगता है
राहत से “मुमताज़” हमें कुछ ख़ास अदावत है
तूफ़ानों में नाव चलाना अच्छा लगता है 

दाग़ क़बा के धुल जाएँगे, दाग़ जिगर के धो लेंगे

दाग़ क़बा के धुल जाएँगे, दाग़ जिगर के धो लेंगे मैला है किरदार भी लेकिन कब वो ये सच बोलेंगे
मिट जाएगा दर्द भी इक दिन, पा जाएँगे राहत भी गिरते पड़ते वक़्त-ए-रवाँ के साथ जो हम भी हो लेंगे
दिन तो चलो कट ही जाएगा रात मगर भारी होगी तारीकी में दिल की ज़मीं पर दर्द की फ़सलें बो लेंगे
अंधों की बस्ती में हर सू बातिल की तारीकी है सच का नूर भी फैला हो तो ये बस राह टटोलेंगे
लफ़्ज़ हैं ख़ून आलूद हमारे जज़्बों में चिंगारी है वो ही तो लौटाएँगे इस दुनिया से हम जो लेंगे

तारीकी – अंधेरा, बातिल – झूठ 

मेरे बिना वो भी तो कितना तन्हा होगा

मेरे बिना वो भी तो कितना तन्हा होगा शायद वो भी मुझ से बिछड़ कर रोया होगा
मेरी हर महफ़िल में उस का चर्चा होगा उस की तन्हाई पर मेरा साया होगा
झील के साहिल पर वो तन्हा बैठा होगा शाम ढले हर ख़्वाहिश का दिल डूबा होगा
रात गए वो आज भी छत पर आया होगा मेरा रस्ता सुबह तक उस ने देखा होगा
नफरत, बेपरवाई, छलावा, बद अखलाक़ी मेरे उस के बीच यही इक रिश्ता होगा
दी है सज़ा उस ने मुझ को, लेकिन ये सच है उस ने भी इक दर्द ए मुसलसल पाया होगा
अब उस को ये जीत चुभे, तो वो ही जाने बाज़ी तो हर हाल में वो ही जीता होगा
कब से बैठी सोच रही हूँ मैं बस ये ही क्या उस ने मेरे बारे में सोचा होगा
अब हम तो हर हाल में जीना सीख चुके हैं लेकिन वो "मुमताज़" न जाने कैसा होगा

तन्हाई-अकेलापन, साहिल-किनारा, दर्द ए मुसलसल-लगातार दर्द 

विसाल

मेरे महबूब तेरे चाँद से चेहरे की क़सम तेरे आग़ोश में मुझको पनाह मिलती है वो तेरे मख़मली होंटों की छुअन का जादू जिस्म पर वो तेरी आँखों की चुभन का जादू वो तेरी साँसों में साँसों का मेरी मिल जाना वो तेरे होंटों से होंटों का मेरे सिल जाना वो तेरे प्यार की शिद्दत, वो तेरी बेताबी धड़कनों की वो सदा, आँखों की वो बेख़्वाबी वो तेरे रेंगते हाथों का नशा, उफ़! तौबा और दो जिस्मों के मिलने की सदा उफ़! तौबा वो तेरी मीठी शरारत, वो तेरी सरगोशी वो मेरी डूबती सिसकी, वो मेरी मदहोशी वो मेरे बंद-ए-क़बा धीरे से खुलते जाना वो तेरी नज़रों से पैकर मेरा धुलते जाना
क्या बताऊँ मैं तुझे कैसी ये बेताबी है क्या कहूँ कौन सी उलझन में गिरफ़्तार हूँ मैं मैं तुझे कैसे बताऊँ मेरे दिल की बातें कैसे कह दूँ कि तेरे हिज्र की बीमार हूँ मैं
मेरे महबूब तेरे चाँद से चेहरे की क़सम तेरे आग़ोश में मुझ को पनाह मिलती है

ज़िन्दगी

       ज़िन्दगी....! अल्लाह का बख़्शा हुआ नायाब तोहफ़ा... ज़िन्दगी अनमोल है, इसकी कोई क़ीमत नहीं, क़ाबिल अजमेरी कहते हैं दिन परेशाँ है, रात भारी है ज़िन्दगी है कि फिर भी प्यारी है        ज़िन्दगी के अनगिनत रंग हैं। प्यार का रंग, नफ़रत का रंग, ग़म का रंग, ख़ुशी का रंग, जश्न का रंग, मातम का रंग, और ये धनक रंग ज़िन्दगी हमें सिर्फ़ एक बार मिलती है, इसलिए हमारा फ़र्ज़ है कि हम इस ज़िन्दगी को भरपूर जियें, इसके पल पल का लुत्फ़ उठाएँ, इसके एक एक लम्हे में सदियाँ जी लें। लेकिन कैसे...?        दोस्तो! हमारी ज़िन्दगी नसीब से वाबस्ता है। इस दुनिया में हर किसी को अपने नसीब के मुताबिक़ हर चीज़ आता होती है, किसी को ख़ुशी मिलती है तो किसी के हिस्से में ग़म आते हैं, किसी को अथाह प्यार मिलता है तो कोई नफ़रतों के लिए भी तरस जाता है, किसी को दौलत मिलती है तो किसी को मुफ़्लिसी, फिर भी ख़ुदा की दी हुई इस ज़िन्दगी को जीना पड़ता है....जीना ही पड़ता है। अब ये हम पर है कि हम इस ज़िन्दगी के एक एक लम्हे को हँस कर जी लें, या यूँ ही रो रो कर खो दें। ये सच है कि हर इंसान को ज़िन्दगी से एक जैसा सरमाया नहीं मिलता, फिर भी, अगर किसी की ज़िन्दगी में ढेर…

नज़्म – टूटी कश्ती

तेरा वादा भी इक क़यामत है ज़िंदगी मेरी कमनसीब रही टूट कर गिरता हुआ जैसे कि तारा कोई यूँ तेरे वादे से लिपटी हुई उम्मीदें हैं
कश्तियाँ टूटी हैं टकरा के जिन जज़ीरों से मौत की अंधी बस्तियों के वो हमसाए हैं दिल के आईने की बिखरी हुई किरचों की चुभन है शादीद इतनी कि जलने लगा अब सारा बदन
मेरे महबूब मेरे टीसते ज़ख़्मों की क़सम तेरे आने का गुमाँ होता है हर आहट पर जब हिला देती हैं ज़ंजीर हवाएँ दर की लौट आती है नज़र गश्त लगा कर मायूस और फिर अपनी उम्मीदों पे हंसी आती है
नाख़ुदा मेरे कभी वक़्त अगर मिल जाए दो घड़ी मुझ को बताना तो सही टूटी कश्ती से समंदर को कैसे पार करूँ

जज़ीरों से – द्वीपों से,  हमसाए – पड़ोसी, नाख़ुदा – मल्लाह