संदेश

March 19, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - हम भी पुराने दौर के आसार हो गए

एहसास के खंडर सभी मिस्मार हो गए हम भी पुराने दौर के आसार हो गए EHSAASKEKHANDARSABHIMISMAAR HO GAEY HAM BHI PURAANE DAUR KE AASAR HO GAEY
हम से हमारा आप भी ख़ुद अजनबी हुआ ज़ाहिर जो हम पे इश्क़ के असरार हो गए HAM SE HAMAARA AAP BHI KHUD AJNABEE HUA ZAHIR JO HAM PE ISHQ KE ASRAAR HO GAEY
राहत ये जाने कैसी थी, कैसा सुकून था आराम इस क़दर था कि बीमार हो गए RAAHAT YE JAANE KAISI THI KAISA SUKOON THA AARAM IS QADAR THA KE BEEMAAR HO GAEY
इक हादसे ने ख़्वाब-ए-फ़ुसूँ तोड़ दिया फिर फिर ज़िन्दगी की फिक्र से दो-चार हो गए IK HAADSE NE KHWAAB E FUSOON TOD DIYA PHIR PHIR ZINDAGI KI FIKR SE DO CHAAR HO GAEY
दहशत, गुनाह, मक्र, दग़ा, ज़ुल्म, वहशतें घबरा के इस ज़माने से अबरार हो गए DEHSHAT GUNAAH MAKR O DAGHAA ZULM WAHSHATEN GHABRA KE IS ZAMAANE SE ABRAAR HO GAEY
करवट ज़मीं की बस्ती की बस्ती निगल गई कल घर थे, आज मलबे का अंबार हो गए KARWAT ZAMEEN KI BASTI KI BASTI NIGAL GAI KAL GHAR THE AAJ MALBE KA AMBAAR HO GAEY
“मुमताज़” ये ज़माने की मतलब परस्तियाँ खाए हैं इतने ज़ख़्म कि हुशियार हो गए 'MUMTAZ' YE ZAMAANE KI MATLAB PARASTI…