संदेश

June 9, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - बिखर जाए न ऐ जानम मोहब्बत का ये शीराज़ा

लहू अब तक टपकता है, अभी हर ज़ख़्म है ताज़ा बिखर जाए न ऐ जानम मोहब्बत का ये शीराज़ा LAHOO AB TAK TAPAKTA HAI ABHI HAR ZAKHM HAI TAAZA BIKHAR JAAE NA AYE JAANAM MOHABBAT KA YE SHEERAZA
अगर उस पार जाना है तो लहरों में उतर जाओ किनारों से कहाँ हो पाएगा तूफ़ाँ का अंदाज़ा AGAR US PAAR JAANA HAI TO LEHRON MEN UTAR JAAO KINAARON SE KAHAN HO PAAEGA LEHRON KA ANDAAZA
सियाही फैलती जाएगी आख़िर को फ़ज़ाओं में अभी तो सज रहा है रात के रुख़सार पर ग़ाज़ा SIYAAHI PHAILTI JAAEGI AAKHIR KO FAZAAON MEN ABHI TO SAJ RAHA HAI RAAT KE RUKHSAAR PE GHAAZA
कोई कोहसार था शायद हमारी राह में हाइल पलट आई सदा काविश की, अरमानों का आवाज़ा KOI KOHSAAR THA SHAAYAD HAMAARI RAAH MEN HAAIL PALAT AAI SADA KAAVISH KI ARMAANON KA AAWAZA
बिखरना, टूटना, बनना, संवरना, फिर बिगड़ जाना उठाना ही पड़ेगा ज़ीस्त को हसरत का ख़मियाज़ा BIKHARNA TOOTNA BAN NA SANWARNA PHIR BIGAD JAANA UTHAANA HI PADEGA ZEEST KO HASRAT KA KHAMIYAAZA
ये तूफ़ाँ तो हमारी ज़ात के अंदर उतर आया कहा किसने उम्मीदों से, खुला रक्खें वो दरवाज़ा YE TOOFAA.N TO HAMAARI ZAAT KE ANDAR UTAR AAYA KAHA KIS NE …