Posts

Showing posts from November 7, 2018

हर तमन्ना को आब देती हूँ

हर तमन्ना को आब देती हूँ ज़ब्त को इन्क़ेलाब देती हूँ
तश्नगी को सराब देती हूँ आस को इज़्तेराब देती हूँ
ज़िंदगी की किताब ख़ाली है आरज़ू का निसाब देती हूँ
फिर मोहब्बत सवाल करती है फिर वफ़ा का हिसाब देती हूँ
ज़िंदगी के अधूरे पैकर को लम्हा-ए-कामयाब देती हूँ
दिन से चुनती हूँ यास की किरनें शब को सौ आफ़ताब देती हूँ
ज़िंदगी की उदास आँखों को फिर वो “मुमताज़” ख़्वाब देती हूँ

har tamanna ko aab deti huN
zabt ko inqelaab deti huN

tashnagi ko saraab deti huN
aas ko izteraab deti huN

din se chunti huN yaas kee kirneN
shab ko sau aaftaab deti huN

zindagi kee kitaab khaali hai
aarzoo ka nisaab deti huN

phir mohabbat sawaal karti hai
phir wafaa ka hisaab deti huN

zindagi ke adhoore paikar ko
lamha-e-kaamyaab deti huN

zindagi kee udaas aankhoN ko
phir wo "Mumtaz" khwaab deti huN