संदेश

December 7, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - हर मुसाफ़िर आप में इक कारवाँ हो जाएगा

हर मुसाफ़िर आप में इक कारवाँ हो जाएगा
चल पड़े गर तू तो ख़ुद इक दास्ताँ हो जाएगा
har musafir aap men ik kaarwaaN ho jaaega chal pade gar  tu to khud ik daastaaN ho jaaega
तू सफ़र अपना शुरू कर, धूप की तेज़ी न देख तपता सूरज तेरी ख़ातिर सायबाँ हो जाएगा tu safar apna shuru kar dhoop ki tezi na dekh tapta sooraj teri khaatir saaybaaN ho jaaega
मंज़िलों की सिम्त बढ़ जाएँगे ख़ुद तेरे क़दम रास्ता हर एक तेरा राज़दाँ हो जाएगा manzilon ki samt badh jaaenge khud tere qadam raastaa har ek tera raazdaaN ho jaaega
ये तकब्बुर, ये तफ़ख़्ख़ुर, ये अना सब रायगाँ जितना सिमटेगा तू उतना बेकराँ हो जाएगा ye takabbur ye tafakkhur ye anaa, sab raaygaaN jitna simtega tu utna bekaraaN ho jaaega
जुस्त को महदूद मत कर, सोच को परवाज़ दे तू नज़र को वुसअतें दे, आस्माँ हो जाएगा just ko mehdood mat kar soch ko parwaaz de tu nazar ko wus'aten de, aasmaaN ho jaaega
इस ज़मीं को नाप ले, रख आस्माँ पर तू क़दम दोनों आलम पर तू इक दिन हुक्मराँ हो जाएगा is zameeN ko naap le rakh aasmaaN par tu qadam donoN aalam par tu ik din hukmaraaN ho jaaega
ऊँची कर परवाज़ …