संदेश

May 18, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - आज सारे क़ुसूर हो जाएँ

आज सारे क़ुसूर हो जाएँ जमअ अब सब फ़ितूर हो जाएँ AAJ SAARE QUSOOR HO JAAEN JAMAA AB SAB FITOOR HO JAAEN
क़ुर्बतें बोझ हो गईं जानाँ अब ख़मोशी से दूर हो जाएँ QURBATEN BOJH HO GAIN JAANA.N AB KHAMOSHI SE DOOR HO JAAEN
इन्क़िसारी से होगा हासिल क्या अब सरापा ग़ुरूर हो जाएँ INQISAARI SE HOGA HAASIL KYA AB SARAAPA GHUROOR HO JAAEN
अद्ल की लाज आज रह जाए क़त्ल हम बेक़ुसूर हो जाएँ ADL KI LAAJ AAJ REH JAAE QATL HAM BEQUSOOR HO JAAEN
अब ये हसरत है हसरतें सारी लुक़मा-ए-लाशऊर हो जाएँ AB YE HASRAT HAI HASRATEN SAARI LUQMA E LAASHAOOR HO JAAEN
इश्क़ मासूम है चलो माना कुछ ख़ताएँ ज़रूर हो जाएँ ISHQ MAASOOM HAI CHALO MAANA KUCHH KHATAAEN ZAROOR HO JAAEN
ज़र्ब ऐसी पड़े हक़ीक़त की ख़्वाब सब चूर चूर हो जाएँ ZARB AISI PADE HAQEEQAT KI KHWAAB SAB CHOOR CHOOR HO JAAEN
इतना तप जाएँ हर अज़ीयत में ख़ुद ही “मुमताज़” नूर हो जाएँ ITNA TAP JAAEN HAR AZEEAT MEN KHUD HI 'MUMTAZ' NOOR HO JAAEN


जमअ – इकट्ठा, क़ुर्बतें – नज़दीकियाँ, इन्किसारी – बहुत झुक कर मिलना, सरापा – सर से पाँव तक, अद्ल – न्याय, हसरत – इच्छा, लुक़मा – कौर, लाशऊर - अचेतन, ज़र्ब – चोट, …