Posts

Showing posts from November 23, 2018

हर कहीं है अक्स तेरा हर कली में तेरी बू

हरकहींहैअक्सतेराहरकलीमेंतेरीबू इसज़मींसेउसज़माँतकहरकहींबसतूहीतू
हूँगुनहसरतापालेकिनफिरभीऐमेरेग़फ़ूर मासियतहैमेरीआदत, औररहमततेरीख़ू
कायनातोंकेभँवरमेंफिररहेहैंबेक़रार जानेलेजाएकहाँअबहमकोतेरीआरज़ू
ऐमेरेमालिक, तेरीरहमतहमेंदरकारहै भरगयाहैइसज़मींपरअबगुनाहोंकासुबू