संदेश

December 14, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - हर हरकत में लाखों तूफ़ाँ, हर जुम्बिश में इक हंगाम

हर हरकत में लाखों तूफ़ाँ, हर जुम्बिश में इक हंगाम मेरे इस बेख़ौफ़ जुनूँ का जाने क्या होगा अंजाम har harkat meN laakhoN toofaaN har jumbish meN ik hangaam mere is bekhauf junooN ka jaane kya hoga anjaam
दरियादिली का इस दुनिया में मिलता है ये ही इनआम आग लगा दी छाँव को इस ने, धूप के सर पर है इल्ज़ाम dariya dili ka is aalam meN milta hai ye hi in'aam aag laga di chaanv ko is ne dhoop ke sar pe hai ilzaam
दिल में ख़ज़ाने, आँख में मोती, लेकिन दामन फिर भी तही बस इतनी क़िस्मत है अपनी, ख़ाली मीना, ख़ाली जाम dil meN khazaane aankh men moti, lekin daaman phir bhi tahee bas itni qismat hai apni, khaali meena, khaali jaam
कुछ अपनी रफ़्तार बढ़ाओ, जोश को कुछ तुग़ियानी दो मंज़िल कितनी दूर अभी है और घिरी आती है शाम kuchh apni raftaar badhaao, josh ko kuchh tughyaani do manzil kitni door abhi hai aur ghiri aati hai shaam
सारी उम्र की कीमत पर भी क़र्ज़ न उतरा रिश्तों का बेचैनी, ज़िल्लत, रुसवाई, हम को मिला है ये इनआम saari umr ki qeemat par bhi qarz na utra rishtoN ka bechaini, zillat, ruswaai, ham ko mila hai ye in'aam
सारी…