Posts

Showing posts from October 31, 2018

अपने जज़्बात की तुगियानी से उलझा न करो

अपनेजज़्बातकीतुगियानी सेउलझानकरो जानलेवाहैयेचाहत, उसेचाहानकरो
अपनेअन्दरकेबयाबानोंमेंखोयानकरो "इतनागहरामेरीआवाज़सेपर्दानकरो"
मैंतोइकटूटाहुआख़्वाबहूँ, मेराक्याहै मेरेबारेमेंकभीग़ौरसेसोचानकरो
मारडालेगातमन्नाओंकाबेसाख्तापन इतनीबेचैनतमन्नाओंकोयकजानकरो
ज़ब्तकाबाँधजोटूटातोबहालेगातुम्हें दिलमेंउठतेहुएतूफ़ानोंकोरोकानकरो
बड़ीमुश्किलसेचुरापाईहूँइनसेख़ुदको