संदेश

May 16, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - कब ज़मीं हामी है मेरी, कब फ़लक बरहम नहीं

कब ज़मीं हामी है मेरी, कब फ़लक बरहम नहीं सामने हालात के मेरी जबीं भी ख़म नहीं KAB ZAMEEN HAAMI HAI MERI KAB FALAK BARHAM NAHIN SAAMNE HAALAAT KE MERI JABEE.N BHI KHAM NAHIN
जानलेवा हैं बहुत यादों की ये बेचैनियाँ भूल जाने में भी लेकिन कुछ अज़ीयत कम नहीं JAANLEWA HAIN BAHOT YAADON KI YE BECHAINIYAAN BHOOL JAANE MEN BHI LEKIN KUCHH AZEEAT KAM NAHIN
लातअल्लुक़ हूँ मैं अपनी ज़िन्दगी से यूँ कि अब ग़म नहीं तक़दीर का, एहसास का मातम नहीं LAATA'ALLUQ HOON MAIN APNI ZINDAGI SE YUN KE AB GHAM NAHIN TAQDEER KA EHSAAS KA MAATAM NAHIN
उड़ रही हैं धज्जियाँ नाकाम जज़्बों की मगर तुम को भी परवा नहीं, हम को भी कोई ग़म नहीं UD RAHI HAIN DHAJJIYAN NAAKAAM JAZBON KI MAGAR TUM KO BHI PARWA NAHIN MUJH KO BHI KOI GHAM NAHIN
ले गया वो साथ सारी रौनक़ें, हर इक ख़ुशी दे गया रंज-ओ-अलम, ये भी इनायत कम नहीं LE GAYA WO SAATH SAARI RAUNAQEN HAR IK KHUSHI DE GAYA RANJ O ALAM YE BHI INAAYAT KAM NAHIN
धूप की शिद्दत से चेहरा हर शजर का ज़र्द है है ज़मीं मुर्दा, बहारों का हसीं मौसम नहीं DHOOP KI SHIDDAT SE CHEHRA HAR SHAJAR KA ZARD HAI HAI ZAMEE.N …