संदेश

October 21, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नज़्म - तसव्वर

चित्र
तू कोई रंग है कि ख़ुश्बू है तू कोई ख़्वाब है कि साया है मेरी तनहाई के अँधेरों में जाने कितनी शोआएँ लाया है TU KOI RANG HAI KE KHUSHBOO HAI TU KOI KHWAAB HAI KE SAAYA HAI MERI TANHAAI KE ANDHERON MEN JAANE KITNI SHOAAEN LAAYA HAI
मेरे बिखरे वजूद की किरचें फिर चमक उठ्ठीं कहकशाँ की तरह मेरे अंदर वही तलातुम है फिर किसी बहर-ए-बेकराँ की तरह MERE BIKHRE WAJOOD KI KIRCHEN PHIR CHAMAK UTTHIN KEHKASHAA.N KI TARAH MERE ANDER WAHI TALAATUM HAI PHIR KISI BEHR E BEKARAA.N KI TARAH
फिर तमाज़त का वो ही आलम है दिल में फिर कोई आफ़ताब उठा जिस्म का रेज़ा रेज़ा जल उट्ठा रूह से फिर कोई शेहाब उठा PHIR TAMAAZAT KA WO HI AALAM HAI DIL MEN PHIR KOI AAFTAAB UTHA JISM KA REZA REZA JAL UTTHA ROOH SE PHIR KOI SHEHAAB UTHA
फिर हुई सुब्ह, फिर वो जाग उठी ज़िन्दगी ले रही है अंगड़ाई मेरी क़िस्मत के वीराँ ख़ाने में फिर से होती है बज़्म आराई PHIR HUI SUBH, PHIR WO JAAG UTHI ZINDAGI LE RAHI HAI ANGDAAI MERI QISMAT KE VEERAA.N KHAANE MEN PHIR SE HOTI HAI BAZM AARAAI
ऐ तसव्वर के रंगीं शहज़ादे आ नज़र भर के तुझ को देख तो लूँ ये हसीं ख़्वाब, धनक रंग ख़याल इस तस…