संदेश

June 16, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - सफ़र अंजान था, वीरान राहें थीं, अंधेरा था

सफ़र अंजान था, वीरान राहें थीं, अंधेरा था यक़ीं जिस पर किया हमने वो रहज़न था, लुटेरा था SAFAR ANJAAN THA VEERAAN RAAHEN THIN ANDHERA THA YAQEE.N JIS PAR KIYA HAM NE WO REHZAN THA LUTERA THA
सिमटने का कोई इमकान ही बाक़ी न छोड़ा था हवस ने ज़िन्दगी का पारा पारा यूँ बिखेरा था SIMATNE KA KOI IMKAAN HI BAAQI NA CHHODA THA HAWAS NE ZINDAGI KA PARA PARA YUN BIKHERA THA
हमारी ज़ात में सीमाब की तासीर रक्खी थी हमारी हर नफ़स में एक तुग़ियानी का डेरा था HAMARI ZAAT MEN SEEMAAB KI TAASEER RAKKHI THI HAMAARI HAR NAFAS MEN EK TUGHIYAANI KA DERA THA
कभी आसेब ये आबाद रहने ही न देता था दिल-ए-वीराँ के खंडर में किसी हसरत का फेरा था KABHI AASEB YE AABAAD REHNE HI NA DETA THA DIL E VEERAA.N KE KHANDAR MEN KISI HASRAT KA PHERA THA
यहीं घुट घुट के मरने को रही मजबूर हर ख़्वाहिश हमारी ज़ात के चारों तरफ़ वहशत का घेरा था YAHIN GHUT GHUT KE MARNE KO RAHI MAJBOOR HAR KHWAAHISH HAMAARI ZAAT KE CHAARON TARAF WAHSHAT KA GHERA THA
उरूसी शाम का दिल भी यक़ीनन पारा पारा था शफ़क़ ने आस्माँ के रुख़ पे ख़ून-ए-दिल बिखेरा था UROOSI SHAAM KA DIL BHI YAQE…