संदेश

December 3, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - सारे आलम में यूँ ही इक हश्र बरपा छोड़ दूँ

चित्र
सारी वहशत, हर तड़प को अब तरसता छोड़ दूँ अब अज़ाबों का ये सेहरा यूँ ही जलता छोड़ दूँ
SAARI WAHSHAT, HAR TADAP KO AB TARASTA CHHOD DOO'N AB AZAABO'N KA YE SEHRA YU'N HI JALTA CHHOD DOO'N
सारे आलम में यूँ ही इक हश्र बरपा छोड़ दूँ मेरी वहशत का तक़ाज़ा है कि दुनिया छोड़ दूँ SAARE AALAM ME'N YU'N HI IK HASHR BARPAA CHHOD DOON MERI WAHSHAT KA TAQAAZA HAI KE DUNIYA CHHOD DOON
जी में आता है, मिटा डालूँ मुक़द्दर का निज़ाम हर तमन्ना, हर ख़ुशी, हर ग़म को तन्हा छोड़ दूँ JEE ME'N AATA HAI MITAA DAALOON MUQADDAR KA NIZAAM HAR TAMANNA HAR KHUSHI HAR GHAM KO TANHAA CHHOD DOON
अपने हाथों की लकीरों को मिटा डालूँ मगर दिल के हर टुकड़े पे कोई नाम लिक्खा छोड़ दूँ APNE HAATHO'N KI LAKEERE'N TO MITA DAALOO'N MAGAR DIL KE HAR TUKDE PE KOI NAAM LIKKHA CHHOD DOO'N
भरते भरते बारहा ख़ुद नोच डाला है तो फिर अब तो दिल के ज़ख़्म को मैं यूँ ही ताज़ा छोड़ दूँ BHARTE BHARTE BAARHAA KHUD NOCH DAALA HAI TO PHIR AB TO DIL KE ZAKHM KO MAIN YU'N HI TAAZA CHHOD DOO'N
मैं हूँ इक ज़ख़्मी तमन्ना, मैं तमन्ना क…