संदेश

November 10, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - सनम ये बंदगी ने आज कैसे कैसे ढाले हैं

सनम ये बंदगी ने आज कैसे कैसे ढाले हैं दिलों के काबा-ओ-दैर-ओ-कलीसा तोड़ डाले हैं
SANAM YE BANDGI NE AAJ KAISE KAISE DHAALE HAI.N DILO.N KE KAABA O DAIR O KALEESA TOD DAALE HAI.N
हमारी रेज़ा रेज़ा रूह के जलते सहीफ़े के हर इक बाब-ए-तमन्ना के सभी औराक़ काले हैं HAMAARI REZA REZA ROOH KE JALTE SAHEEFE KE  HAR IK BAAB E TAMANNA KE SABHI AURAAQ KAALE HAI.N
हटा लो मेरी आँखों से मसर्रत के सभी मंज़र अभी बीनाई ज़ख़्मी है, अभी आँखों में छाले हैं HATA LO MERI AANKHO.N SE MASARRAT KE SABHI MANZAR ABHI BEENAAI ZAKHMI HAI ABHI AANKHON ME.N CHHALE HAI.N
न जाने किस ख़ुशी की आरज़ू में आज तक हमने हर इक वीराना छाना है, सभी सेहरा खंगाले हैं NA JAANE KIS KHUSHI KI AARZOO ME.N AAJ TAK HAM NE HAR IK VEERANA CHHANA HAI, SABHI SEHRA KHANGAALE HAI.N
बिखर जाए ये शीराज़ा तो हम को भी सुकूँ आए न जाने कब से रेज़ा रेज़ा हस्ती का संभाले हैं BIKHAR JAAE YE SHEERAZA TO HAM KO BHI SUKOO.N AAEY NA JAANE KAB SE REZA REZA HASTI KA SAMBHAALE HAI.N
रगों में भर गया है ज़हर तो आख़िर गिला क्यूँ हो हमीं ने नाग अपनी आस्तीनों में तो पाले हैं RAGO.N ME.N BHA…