ज़ालिम के दिल को भी शाद नहीं करते


ज़ालिम के दिल को भी शाद नहीं करते
मिट जाते हैं, हम फ़रियाद नहीं करते

चेहरा कुछ कहता है, लब कुछ कहते हैं
शायद वो दिल से इरशाद  नहीं  करते

आ पहुंचे हैं शहर--ख़ुशी में उकता कर
अब वीराने  हम  आबाद  नहीं  करते

हर मौक़े पर गोहर लुटाना क्या मानी
अश्कों को यूं ही बरबाद  नहीं  करते

हर हसरत का नाहक़ खून  बहा  डालें
इतनी भी अब हम बेदाद  नहीं  करते

देते हैं दिल, लेकिन खूब  सहूलत  से
अब तो कोहकनी फरहाद  नहीं  करते

ज़हर खुले ज़ख्मों में बनने लगता  है
"हम गुज़रे लम्हों को याद नहीं करते"

बरसों रौंदे जाते  हैं,  तब  उठते  हैं
यूँ ही हम "मुमताज़" फ़साद नहीं करते 

zaalim ke dil k bhi shaad nahiN karte
mit jaate haiN, ham fariyaad nahiN karte

chehra kuchh kehta hai, lab kuchh kehte haiN
shaayad wo dil se irshaad nahiN karte

aa pahnche haiN shehr e khushi meN ukta kar
ab veeraane ham aabaad nahiN karte

har mauqe par gohar lutaana kya maani
ashkoN ko yooN hi barbaad nahiN karte

har hasrat ka naahaq khoon bahaa daaleN
itni bhi ab ham bedaad nahiN karte

dete haiN dil, lekin khoob sahulat se
ab to kohkani farhaad nahiN karte

zehr khule zakhmoN meN banne lagta hai
"ham guzre lamhoN ko yaad nahiN karte"

barsoN raunde jaate haiN, tab uthte haiN
yuN hi ham "Mumtaz" fasaad nahiN karte

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था