संदेश

June 27, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग्राउंड ज़ीरो

सुबह की पेशानी पर चुनता था अफ़शाँ आफ़ताब कारगाह-ए-यौम-ए-नौ का खुल चुका था पहला बाब जाग उठी थी, लेती थी अंगड़ाइयाँ सुबह-ए-ख़िराम अपने अपने काम पर सब चल दिये थे ख़ास-ओ-आम अपनी अपनी फ़िक्र-ओ-फ़न में हौसले महलूल थे बूढ़े-बच्चे, मर्द-ओ-ज़न सब काम में मशग़ूल थे बस किसी भी आम से दिन की तरह ये दिन भी था किस को था मालूम, होगा आज इक महशर बपा
एक तय्यारा हवा में झूमता उड़ता हुआ इक फ़लक आग़ोश इमारत से लो वो टकरा गया इस धमाके से इमारत की इमारत काँप उठी एक पल को आलम-ए-इन्साँ की ग़ैरत काँप उठी यूँ वहाँ बरपा हुआ इक आग का सैलाब सा जैसे नाज़िल हो गई हो आस्माँ से इक बला हर कोई सकते में था, सब के ख़ता औसान थे नागहानी इस बला से मर्द-ओ-ज़न हैरान थे
चार सू बरपा हुआ इक शोर, दहशत छा गई यूँ हुआ रक़्स-ए-क़ज़ा, हर जान लब पर आ गई रेज़े इंसानी बदन के चार सू बिखरे हुए हो गए मिस्मार हर इक ज़िन्दगी के ज़ाविए हर तरफ़ बादल धुएँ के, आग की दीवार सी खा गई कितनी ही जानों को ये दहशत मार सी जिस को जो रस्ता मिला, उस सिम्त भागा हर बशर कोई तो खिड़की से कूदा, कोई पहुंचा बाम पर इतनी कोशिश से भी आख़िर जान बच पाई कहाँ हर तरफ़ फैला हुआ था मौत का काला धुआँ छत प जा…

चेहरा पढ़ लो, लहजा देखो

चेहरा पढ़ लो, लहजा देखो दिल की बातें यूँ भी समझो
फिर खोलो यादों की परतें दिल के सारे ज़ख़्म कुरेदो
अब कुछ दिन जीने दो मुझ को ऐ दिल की बेजान ख़राशो
रंजिश की लौ माँद हुई है फिर कोई इल्ज़ाम तराशो
सुलगा दो हस्ती का जंगल जलते हुए बेचैन उजालो
दर्द तुम्हारा भी देखूँगी दम तो लो ऐ पाँव के छालो
ख़त्म हुई हर एक बलन्दी ऐ मेरी बेबाक उड़ानो
तंग दिलों की इस बस्ती में उल्फ़त की ख़ैरात न माँगो
मग़रूरीयत के पैकर पर मजबूरी के ज़ख़्म भी देखो
हर्फ़ को सच्चे मानी दे कर लफ़्ज़ों का एहसान उतारो
थोड़ा तो आराम अता हो ऐ मेरे “मुमताज़” इरादों

दुलहन रात दिवाली की

डाल सियह ज़ुल्फ़ों में अफ़शाँ दुलहन रात दिवाली की लाई दिलों में लाखों ख़ुशियाँरौशन रात दिवाली की
दीपशिखाओं की अठखेली,हँसती हुई आतिशबाज़ी आग की लौ से खेल रही है बैरन रात दिवाली की
फैला है इक

लेकिन

१. आबिदा देखा? वही था न? वही तो था वो पास से गुज़रा, मगर ऐसे कि देखा भी नहीं देखना कैसी सज़ा दूँगी मैं इस को, अब के आएगा मिलने तो मैं भी इसे देखूँगी नहीं देखना तू कि मैं इस से कभी बोलूंगी नहीं २. जाने वो कौन सी उलझन में घिरा होगा कल जब कि कल राह पे मुझ को भी न देखा उस ने जाने क्या ग़म है उसे कैसी कशाकश में है वो हाय! मर जाऊं कि मैं ने उसे पूछा भी नहीं काश ग़म उस के कलेजे में छुपा लेती मैं अब वो मिलता तो उसे दिल से लगा लेती मैं ३. ऐसा लगता है किसी और का हो बैठा है वो इसलिए उस ने मुझे राह में देखा भी नहीं मुझ को मालूम था ऐसी ही है ये मर्द की ज़ात कैसे हँस हँस के पड़ोसन से किये जाता था बात और कहता है, मैं बेवजह का शक करती हूँ? उस पे इलज़ाम बिला वजह के मैं धरती हूँ ४. देखना तू कि मैं उस से न कभी बोलूंगी लाख समझाए मगर कुछ न सुनूंगी मैं भी इक जहाँ उस ने नया अपना बनाया है अगर सात रंगों के कई ख़्वाब बुनूँगी मैं भी ५. आज का वादा था लेकिन नहीं आया अब तक जाने क्या बात है क्यूँ उस ने बदल लीं नज़रें एक ख़त लिक्खूं उसे और ये पूछूं... लेकिन.... कोई मिलने कि ही सूरत मैं निकालूँ...