अब अपनी जीत को ऐसे भी दाग़दार न कर


अब अपनी जीत को ऐसे भी दाग़दार न कर
शिकस्त1 खाए हुए दुश्मनों पे वार न कर

जेहाद-ए-इश्क़2 को रुस्वा सर-ए-दयार3 न कर
जिगर के दाग़ ज़माने पे आशकार4 न कर

है फूल फूल तेरी बेक़रारियों पे निसार
जूनून-ए-दश्त-नवर्दी5, तवाफ़-ए-ख़ार6 न कर

जहान-ए-ज़ुल्म7 तेरा ख़ाक हो न जाए कहीं
उबलते ख़ून के क़तरों8 का कारोबार न कर

वक़ार-ए-शौक़-ए-अना9 का भी पास रख थोड़ा
जूनून10 में भी गरेबाँ को तार तार न कर

रगों के ख़ून से जज़्बों की आबयारी11 कर
तू सरफ़रोशी12 की ज़िद में तवाफ़-ए-दार13 न कर

फ़रेब देता रहा है क़दम क़दम प् ये दिल
तू दिल की बात का "मुमताज़" ऐतबार न कर

1- हार, 2- प्रेम का संघर्ष, 3- शहर के बीच, 4- ज़ाहिर, 5- जंगलों में भटकने का जुनून, 6- काँटों की परिक्रमा, 7- अत्याचार की दुनिया, 8- बूँदों, 9- अहम के शौक़ की गंभीरता, 10- पागलपन, 11- सिंचाई, 12- मर मिटना, 13- फांसी के तख्ते की परिक्रमा

ab apni jeet ko aise bhi daaghdaar na kar
shikast khaae hue dushmanoN pa waar na kar

jehaad e ishq ko ruswa sar e dayaar na kar
jigar ke daagh zamaane pa aashkaar na kar

hai phool phool teri beqaraariyoN pa nisaar
junoon e dasht nawardi, tawaaf e khaar na kar

jahaan e zulm tera khaak ho na jaae kahiN
ubalte khoon ke qatroN ka kaarobaar na kar

waqaar e shauq e anaa ka bhi paas rakh thoda
junoon meN bhi garebaaN ko taar taar na kar

ragoN ke khoon se jazboN ki aabyaari kar
tu sarfaroshi ki zid meN tawaaf e daar na kar

fareb deta raha hai qadam qadam pa ye dil
tu dil ki baat ka "Mumtaz" aitbaar na kar

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे