अब अपनी जीत को ऐसे भी दाग़दार न कर


अब अपनी जीत को ऐसे भी दाग़दार न कर
शिकस्त1 खाए हुए दुश्मनों पे वार न कर

जेहाद-ए-इश्क़2 को रुस्वा सर-ए-दयार3 न कर
जिगर के दाग़ ज़माने पे आशकार4 न कर

है फूल फूल तेरी बेक़रारियों पे निसार
जूनून-ए-दश्त-नवर्दी5, तवाफ़-ए-ख़ार6 न कर

जहान-ए-ज़ुल्म7 तेरा ख़ाक हो न जाए कहीं
उबलते ख़ून के क़तरों8 का कारोबार न कर

वक़ार-ए-शौक़-ए-अना9 का भी पास रख थोड़ा
जूनून10 में भी गरेबाँ को तार तार न कर

रगों के ख़ून से जज़्बों की आबयारी11 कर
तू सरफ़रोशी12 की ज़िद में तवाफ़-ए-दार13 न कर

फ़रेब देता रहा है क़दम क़दम प् ये दिल
तू दिल की बात का "मुमताज़" ऐतबार न कर

1- हार, 2- प्रेम का संघर्ष, 3- शहर के बीच, 4- ज़ाहिर, 5- जंगलों में भटकने का जुनून, 6- काँटों की परिक्रमा, 7- अत्याचार की दुनिया, 8- बूँदों, 9- अहम के शौक़ की गंभीरता, 10- पागलपन, 11- सिंचाई, 12- मर मिटना, 13- फांसी के तख्ते की परिक्रमा

ab apni jeet ko aise bhi daaghdaar na kar
shikast khaae hue dushmanoN pa waar na kar

jehaad e ishq ko ruswa sar e dayaar na kar
jigar ke daagh zamaane pa aashkaar na kar

hai phool phool teri beqaraariyoN pa nisaar
junoon e dasht nawardi, tawaaf e khaar na kar

jahaan e zulm tera khaak ho na jaae kahiN
ubalte khoon ke qatroN ka kaarobaar na kar

waqaar e shauq e anaa ka bhi paas rakh thoda
junoon meN bhi garebaaN ko taar taar na kar

ragoN ke khoon se jazboN ki aabyaari kar
tu sarfaroshi ki zid meN tawaaf e daar na kar

fareb deta raha hai qadam qadam pa ye dil
tu dil ki baat ka "Mumtaz" aitbaar na kar

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था