दाग़ क़बा के धुल जाएँगे, दाग़ जिगर के धो लेंगे

दाग़ क़बा के धुल जाएँगे, दाग़ जिगर के धो लेंगे
मैला है किरदार भी लेकिन कब वो ये सच बोलेंगे

मिट जाएगा दर्द भी इक दिन, पा जाएँगे राहत भी
गिरते पड़ते वक़्त-ए-रवाँ के साथ जो हम भी हो लेंगे

दिन तो चलो कट ही जाएगा रात मगर भारी होगी
तारीकी में दिल की ज़मीं पर दर्द की फ़सलें बो लेंगे

अंधों की बस्ती में हर सू बातिल की तारीकी है
सच का नूर भी फैला हो तो ये बस राह टटोलेंगे

लफ़्ज़ हैं ख़ून आलूद हमारे जज़्बों में चिंगारी है
वो ही तो लौटाएँगे इस दुनिया से हम जो लेंगे


तारीकी अंधेरा, बातिल झूठ 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया