संदेश

May 20, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं

इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं क्या मेरे पास है, क्या क्या है लुटा याद नहीं IS MUSAAFAT SE HAMEN KYA HAI MILA YAAD NAHIN KYA MERE PAAS HAI KYA KYA HAI LUTA YAAD NAHIN
जिस के होने से मेरी ज़ात में तुग़ियानी थी अब तलक कौन मेरे साथ चला याद नहीं JIS KE HONE SE MERI ZAAT MEN TUGHIYAANI THI AB TALAK KAUN MERE SAATH CHALA YAAD NAHIN
हम कि राहों के मनाज़िर में हुए गुम ऐसे कारवाँ जाने कहाँ जा के रुका याद नहीं HAM TO RAAHON KE MANAAZIR MEN HUE GUM AISE KAARWAA.N JAANE KAHAN JAA KE RUKA YAAD NAHIN
ये तो है याद कि दिल में थी बड़ी आग मगर कब ये दिल सर्द हुआ, कब ये बुझा याद नहीं YE TO HAI YAAD KE DIL MEN THI BADI AAG MAGAR KAB YE DIL SARD HUA KAB YE BUJHA YAAD NAHIN
वहशतें ऐसी, कि ख़ुद से भी हेरासाँ हैं हम बेख़ुदी ऐसी कि अपना भी पता याद नहीं WAHSHATEN AISI KE KHUD SE BHI HERAASA.N HAIN HAM BEKHUDI AISI KE APNA BHI PATA YAAD NAHIN
आग सी जलती रही दिल की सियाही में मगर कौन इस आतिश-ए-दोज़ख़ में जला, याद नहीं AAG SI JALTI RAHI DIL KI SIYAAHI MEN MAGAR KAUN IS AATISH E DOZAKH MEN JALA YAAD NAHIN
दिल का ये शहर उजड़ जा…