एक छोटी सी पैरोडी

नेट पर हम तुम्हें क्या बताएँ
किस क़दर चोट खाए हुए हैं
फ़ेसबुक से मिटाए गए हैं
व्हाट्स अप के सताए हुए हैं

आज तक हम कभी न नहाए
मैले कपड़े पहन कर हम आए
आज ही हम ने बदले हैं कपड़े

आज ही हम नहाए हुए हैं 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया