एक छोटी सी पैरोडी

नेट पर हम तुम्हें क्या बताएँ
किस क़दर चोट खाए हुए हैं
फ़ेसबुक से मिटाए गए हैं
व्हाट्स अप के सताए हुए हैं

आज तक हम कभी न नहाए
मैले कपड़े पहन कर हम आए
आज ही हम ने बदले हैं कपड़े

आज ही हम नहाए हुए हैं 

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था