एक छोटी सी पैरोडी

नेट पर हम तुम्हें क्या बताएँ
किस क़दर चोट खाए हुए हैं
फ़ेसबुक से मिटाए गए हैं
व्हाट्स अप के सताए हुए हैं

आज तक हम कभी न नहाए
मैले कपड़े पहन कर हम आए
आज ही हम ने बदले हैं कपड़े

आज ही हम नहाए हुए हैं 

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे