Posts

Showing posts from October 23, 2018

परों की कह्कशाओं तक रसानी देखते जाओ

परोंकीकह्कशाओंतकरसानीदेखतेजाओ जुनूँकीआँधियोंपरहुक्मरानीदेखतेजाओ
बिखरतीहैजोमाज़ीकीनिशानी, देखतेजाओ कभीअजदादकीकुटियापुरानीदेखतेजाओ
बरहनाशाख़परहसरतकीइककोंपलउभरतीहै