संदेश

March 17, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गीत – दर्द के दीप जले

दर्द के दीप जले हमसफ़र छोड़ चले हम को जीना है मगर जब तलक साँस चले
वक़्त की धूप कि ढलती जाए ज़िन्दगी है कि पिघलती जाए कोई साथी, न सहारा, न सुराग़ और ये राह कि चलती जाए कैसे तय हो ये सफ़र कब तलक कोई चले
कोई जीवन का ठिकाना भी नहीं अब वो पहला सा ज़माना भी नहीं कोई जीने का बहाना भी नहीं अब तो वो दर्द पुराना भी नहीं आस आँखों से बहे मिले राहों से गले
नींद भी दूर मेरी आँखों से चाँद भी दूर मेरी रातों से मेरी मेहमान है अब तारीकी और शनासाई है सन्नाटों से रौशनी होती नहीं कितनी भी रूह जले

तारीकी – अँधेरा, शनासाई – पहचान 

आस्माँ तू मेरा दुश्मन क्यूँ है

आस्माँ तू मेरा दुश्मन क्यूँ है इक मेरा ही तही दामन क्यूँ है
है अधूरी ख़ुशी, अधूरा ग़म ज़ीस्त में ये अधूरापन क्यूँ है
हर मसर्रत से, ग़म से दूर हैं हम आज फिर दिल में ये उलझन क्यूँ है
क्या ज़रूरी कि हम ही यकता हों हर बशर हम से ही बदज़न क्यूँ है
सिर्फ़ तारीकी है हर सू तो फिर दिल में इक शमअ सी रौशन क्यूँ है
हम तो “मुमताज़” लुट के भी ख़ुश हैं
फिर भी सहमा सा वो रहज़न क्यूँ है 

हम कहाँ हैं हमें ख़बर भी नहीं

हम कहाँ हैं हमें ख़बर भी नहीं रास्ता कोई मो’तबर भी नहीं
हम ने तामीर जो किया है जहाँ उसमें इक साया-ए-शजर भी नहीं
सोच की वुसअतें फ़लक से परे पाँव बोझल हैं, बाल-ओ-पर भी नहीं
सर पे शमशीर-ए-ख़ौफ़-ए-दुनिया भी और बग़ावत बिना बसर भी नहीं
संग आते हैं किस उम्मीद पे अब पेड़ पर अब कोई समर भी नहीं
ये तज़ाद-ए-हयात क्या कहिए रोए हैं और आँख तर भी नहीं
हम नहीं ख़ुश ये इक हक़ीक़त है हम मगर इतने मुंतशर भी नहीं
जिस पे “मुमताज़” रख के सर रोएँ ऐसा अब कोई संग-ए-दर भी नहीं

मो’तबर – भरोसेमंद, शजर – पेड़, वुसअतें – फैलाव, फ़लक – आसमान, शमशीर – तलवार, समर – फल, तज़ाद-ए-हयात – जीवन का विरोधाभास, मुंतशर – बिखरा हुआ, संग-ए-दर – दहलीज़ का पत्थर 

जो था तेरे लिए बस उस सफ़र की याद आती है

जो था तेरे लिए बस उस सफ़र की याद आती है हमें हर लम्हा, हर पल अपने घर की याद आती है
तसव्वर में जो यादों के सफ़र पर हम निकलते हैं शिकस्ता पाँव, ज़ख़्मी बाल-ओ-पर की याद आती हैं
बिछड़ते वक़्त वो हर बार जो अशकों से धुलती है वो हसरत की नज़र, बस उस नज़र की याद आती है
जब अपने रेशमी बिस्तर पे हम करवट बदलते हैं हमें उस ज़ख़्मी, बोसीदा खंडर की याद आती है
वो जिसकी आँच से दिल का हर इक ज़र्रा सितारा था मोहब्बत के उसी ठंडे शरर की याद आती है
जो वापस अर्श से मेरी दुआएँ लौट आती हैं जो था मेरी दुआ में उस असर की याद आती है
जो हम यादों की टेढ़ी मेढ़ी गलियों से गुज़रते हैं हमें अक्सर तुम्हारी रहगुज़र की याद आती है
हमें भी मिल गया कोई, तुम्हें भी मिल गया कोई जो तन्हा रह गया, बस उस शजर की याद आती है
भटकते फिरते हैं “मुमताज़” इन गलियों में हम अक्सर किधर का है सफ़र, जाने किधर की याद आती है

तसव्वर – कल्पना, शिकस्ता – थका हुआ, बोसीदा – कमजोर, शरर – चिंगारी, शजर – पेड़ 

सांस्कृतिक प्रदूषण

    प्रदूषण और वो भी संस्कृति का?     जी हाँ! और ये प्रदूषण आजकल हमारे समाज के चप्पे चप्पे मेन फैला दिखाई देता है, और ये सांस्कृतिक प्रदूषण ग्लोबलाइज़ेशन की बयार का साइड एफ़ेक्ट है। इस ग्लोबलाइज़ेशन की आँधी ने सारी दुनिया को एक बड़े से बाज़ार में तब्दील कर दिया है, और इस बाज़ार ने एक नए मुहावरे को जन्म दिया है;     “जो दिखता है, वो बिकता है”     तो फिर इस बाज़ार में जिसको बिकना है, उसे कुछ दिखाना भी तो पड़ेगा, तो हर कोई ख़ुद को ग्लोबल दिखाने में लगा हुआ है। आज के दौर में बदन उघाडू कपड़े ग्लोबलाइज़ेशन के प्रतीक हैं और इनको धारण करने वाली औरतें डीवा हो गई हैं। देवी से डीवा तक के इस सफ़र में अगर कुछ खोया है तो वो हैं संस्कार। आज अगर कोई लड़की सलवार कमीज़ या साड़ी में मलबूस हो तो उसे तंज़ से बहन जी का ख़िताब दे दिया जाता है, गोया बहन का रिश्ता भी अब गाली हो गया है। तो इस ख़िताब से बचने के लिए लड़कियाँ डीवा बनने के लिए जी जान से तैयार हैं। वैसे ही जैसे देश के कई भागों में भैया का इस्तेमाल गाली के तौर पर किया जाता है। इसी प्रकार अँग्रेजी का इस्तेमाल आज ज़रूरी हो गया है। फॉरवर्ड दिखने के लिए ये ज़रूरी है, चाहे दिल …

सोच की परवाज़ ने हर ग़म को पस्पा कर दिया

सोच की परवाज़ ने हर ग़म को पस्पा कर दिया एक जुम्बिश ने क़लम की हश्र बरपा कर दिया
रास जब आया न हमको ये उम्मीदों का सफ़र अपने ही हाथों से दिल को पारा पारा कर दिया
ये नतीजा निकला उस शो’ला सिफ़त के क़ुर्ब का एक ही लग़्ज़िश ने इक मो’मिन को तरसा कर दिया
अजनबी लगने लगे हम ख़ुद ही अपने आप को वहशत-ए-दिल ने हमारा हाल कैसा कर दिया
अब न कोई ग़म, न कोई दर्द, आँखें बंद हैं एक ही हिचकी ने हर मुश्किल का चारा कर दिया
मरना भी मुश्किल था उसकी आरज़ू जब तक रही उसकी बेपरवाई ने आसान जीना कर दिया
दाल आटे की एवज़ हम चंद क़तरे बेच दें इस गरानी ने हमारा ख़ून सस्ता कर दिया
लम्हे लम्हे का हमें देना पड़ा आख़िर हिसाब आज मेरी ज़िन्दगी ने फिर तक़ाज़ा कर दिया
आज फिर “मुमताज़” सर्फ़-ए-आरज़ू है ज़िन्दगी इक नज़र ने उसकी हर इक ज़ख़्म ताज़ा कर दिया

परवाज़ – उड़ान, पस्पा – नीचा दिखाना, जुम्बिश – हिलना, हश्र – प्रलय, पारा पारा – टुकड़ा टुकड़ा, शो’ला सिफ़त – आग की जैसी तबीयत, क़ुर्ब – नजदीकी, लग़्ज़िश – लड़खड़ाना, मो’मिन – मुसलमान, तरसा – अग्नि पूजक, वहशत-ए-दिल – दिल की घबराहट, क़तरे – बूँदें, गरानी – महँगाई, तक़ाज़ा – माँग, सर्फ़-ए-आरज़ू – इच्छाओं की भेंट