संदेश

May 23, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

तरही ग़ज़ल - दश्त-ओ-सहरा-ओ-समंदर सभी घर ले आए

दश्त-ओ-सहरा-ओ-समंदर सभी घर ले आए अबके हम बाँध के क़दमों में सफ़र ले आए DASHT O SEHRA O SAMANDAR SABHI GHAR LE AAE AB KE HAM BAANDH KE QADMON MEN SAFAR LE AAE
डर के तुग़ियानी से ठहरे हैं जो, कह दो उस ने हम समंदर में जो उतरे तो गोहर ले आए DAR KE TUGHYAANI SE THEHRE HAIN JO KEH DO UN SE HAM SAMANDAR MEN JO UTRE TO GOHAR LE AAE
कब तही दस्त हम आए हैं तेरी महफ़िल से ज़ख़्म ले आए, कभी ख़ून-ए-जिगर ले आए KAB TAHI DAST HAM AAE HAIN TERI MEHFIL SE ZAKHM LE AAE KABHI KHOON E JIGAR LE AAE
हो रही थी अभी परवाज़ बलन्दी की तरफ़ लोग ख़ातिर के लिए तीर-ओ-तबर ले आए HO RAHI THI ABHI PARWAAZ BALANDI KI TARAF LOG KHAATIR KE LIYE TEER O TABAR LE AAE
कोई दावा, न इरादा, न तमन्ना, न हुनर हम में वो बात कहाँ है कि असर ले आए KOI DAAVA NA IRAADA NA TAMANNA NA HUNAR HAM MEN WO BAAT KAHAN HAI KE ASAR LE AAE
धज्जियाँ उड़ती रहीं गो मेरे बाल-ओ-पर की हम ने परवाज़ जो की शम्स-ओ-क़मर ले आए DHAJJIYAN UDTI RAHIN GO MERE BAAL O PAR KI HAM NE PARWAAZ JO KI SHAMS O QAMAR LE AAE
है यहाँ कितनी तजल्ली कि नज़र क़ासिर है मेरे जज़्बात मुझे जाने किधर ले आए HAI YAHA…