Posts

Showing posts from November 15, 2018

कुछ दोहे‎

धड़कन की लय थम गई, पिघला मन का प्यार सूना सारा जग हुआ, रूठा मेरा यार
इतना सस्ता हो गया, इन्साँ का किरदार रिश्ते नाते खेल हैं, उल्फ़त है व्यापार
कैसी उन की ईद हो, क्या उन का त्योहार बच्चे, जो करते रहे, पानी से इफ़्तार
लम्हे भर ने खेंच दी, आँगन में दीवार महवर से ही हट गया, रिश्तों का आधार
करते हैं कुछ लोग अब, मजहब का व्यापार जामा तो शफ़्फ़ाफ़ है, काला है किरदार
तन बोझल दिल ग़मज़दा, रूह तलक बीमार जाने कब गिर जाएगी, ये लाग़र दीवार
dhadkan kee lay tham gai pighla man ka pyaar  soona saara jag hua rootha mera yaar 
itna sasta ho gaya insaaN ka kirdaar  rishte naate khel haiN ulfat hai byopaar 
kaisi un ki eid ho, kya un ka tehwaar  bachche, jo karte rahe paani se iftaar 
lamhe bhar ne khench di aangan meN diwaar  mahwar se hi hat gaya rishtoN ka aadhaar
karte haiN kuchh log ab mazhab ka byopaar  jaamaa to shaffaaf hai, kaala hai kirdaar 
tan bojhal dil ghamzada rooh talak bimaar jaane kab gir jaaegi yeh laaghar diwaar