ज़िन्दगी

       ज़िन्दगी....!
अल्लाह का बख़्शा हुआ नायाब तोहफ़ा...
ज़िन्दगी अनमोल है, इसकी कोई क़ीमत नहीं, क़ाबिल अजमेरी कहते हैं
दिन परेशाँ है, रात भारी है
ज़िन्दगी है कि फिर भी प्यारी है
       ज़िन्दगी के अनगिनत रंग हैं। प्यार का रंग, नफ़रत का रंग, ग़म का रंग, ख़ुशी का रंग, जश्न का रंग, मातम का रंग, और ये धनक रंग ज़िन्दगी हमें सिर्फ़ एक बार मिलती है, इसलिए हमारा फ़र्ज़ है कि हम इस ज़िन्दगी को भरपूर जियें, इसके पल पल का लुत्फ़ उठाएँ, इसके एक एक लम्हे में सदियाँ जी लें।
लेकिन कैसे...?
       दोस्तो! हमारी ज़िन्दगी नसीब से वाबस्ता है। इस दुनिया में हर किसी को अपने नसीब के मुताबिक़ हर चीज़ आता होती है, किसी को ख़ुशी मिलती है तो किसी के हिस्से में ग़म आते हैं, किसी को अथाह प्यार मिलता है तो कोई नफ़रतों के लिए भी तरस जाता है, किसी को दौलत मिलती है तो किसी को मुफ़्लिसी, फिर भी ख़ुदा की दी हुई इस ज़िन्दगी को जीना पड़ता है....जीना ही पड़ता है। अब ये हम पर है कि हम इस ज़िन्दगी के एक एक लम्हे को हँस कर जी लें, या यूँ ही रो रो कर खो दें।
ये सच है कि हर इंसान को ज़िन्दगी से एक जैसा सरमाया नहीं मिलता, फिर भी, अगर किसी की ज़िन्दगी में ढेर सारे ग़म होते हैं तो बहुत सी ख़ुशियाँ भी होती हैं, अगर कहीं नफ़रत मिलती है तो कहीं प्यार भी मिलता है, कोई मातम का मौक़ा आता है तो जाने कितने जश्न के पल भी आते हैं.....रात होती है तो सुबह का होना यक़ीनी है.....।
       आपके बच्चे के लबों पर आई मुस्कान, किसी ग़रीब की हथेली पर एक सिक्का रखने पर उसकी आँखों में जागी चमक, सुबह के उगते सूरज का दिलकश नज़ारा, चाँद की ठंडी किरणें.....खोज कर तो देखिये, आपको ज़िन्दगी में ऐसी न जाने कितनी खुशियाँ मिल जाएँगी।
       तो फिर क्यूँ न हम ऐसा करें कि खुशियों को अपनी ज़िन्दगी का सरमाया बनाएँ, प्यार के लिए ज़िन्दा रहें,  जश्न के पलों का भरपूर लुत्फ़ उठाएँ और किसी भी हाल में उम्मीद का दामन न छोड़ें,
क्यूँ कि नाउम्मीदी कुफ़्र है......
       उम्मीदें हमारी ज़िन्दगी में खुशियाँ लाती हैं। एक उम्मीद कि एक दिन सब कुछ ठीक हो जाएगा, हमें हौसला देती है, हम में जीने की उमंग भर देती है।
       और प्यार....?
       जी हाँ, प्यार हमारी ज़िन्दगी में रंग भर देता है, इसलिए प्यार करें, ख़ुद से....अपने अपनों से...दोस्तों से....और हर इंसान से। यक़ीन कीजिये, आप जितना प्यार बाँटेंगे, वो कई गुना बढ़ कर आपके पास वापस लौट आएगा.....।
       ये ज़िन्दगी जीने का मेरा तरीक़ा है


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया