संदेश

August, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - बरहना रक़्स करती है हवस वहशत की तानों पर

चित्र
बरहना रक़्स करती है हवस वहशत की तानों पर
त’अस्सुब के खिलौने बिकते हैं दिल की दुकानों पर
BARAHNA RAQS KARTI HAI HAWAS WAHSHAT KI TAANON PAR TA'ASSUB KE KHILAUNE BIKTE HAIN DIL KI DUKAANON PAR
परिंदों को ख़बर क्या, जाल है गंदुम के दानों पर शिकारी ने चढ़ा रक्खे हैं तीर अपनी कमानों पर PARINDON KO KHABAR KYA JAAL HAI GANDUM KE DAANON PAR SHIKAARI NE CHADHAA RAKKHE HAIN TEER APNI KAMAANON PAR
सभी मशकूक हैं, सबके दिलों पर ख़ौफ़ तारी है अजब सा बोझ इक रक्खा है इन्सानों की जानों पर SABHI MASHKOOK HAIN SAB KE DILON PAR KHAUF TAARI HAI AJAB SA BOJH YE RAKKHA HAI INSAANON KI JAANON PAR
किसी की नर्मगोई को कोई समझे न कमज़ोरी बनाता है निशाँ पानी जो गिरता है चट्टानों पर KISI KI NARMGOEE KO KOI SAMJHE NA KAMZORI BANAATA HAI NISHAAn PAANI JO GIRTA HAI CHATTANON PAR
कहाँ से हम कहाँ तक आ गए पैंसठ ही बरसों में सदी का बोझ है अब हाल के बोसीदा शानों पर KAHAN SE HAM KAHAN TAK AA GAE PAINSATH HI BARSON MEN SADI KA BOJH HAI AB HAAL KE BOSEEDA SHAANON PAR
ज़लालत, जुर्म, ग़ुरबत, भुखमरी, क़िस्मत है इंसाँ की है क़ैद इंसानियत महलों म…

ग़ज़ल - हौसले का ले के तेशा बेबसी पर वार कर

चित्र
हौसले का ले के तेशा बेबसी पर वार कर
अपनी हर मंज़िल की ख़ातिर रास्ता हमवार कर
HAUSLE KA LE KE TESHA BEBASI PAR WAAR KAR
APNI HAR MANZIL KI KHAATIR RAASTA HAMWAAR KAR

खो के बहर-ए-मौजज़न में ख़ुद भी हो जा बेकराँ
जीत ले उल्फ़त की बाज़ी तू ख़ुदी को हार कर
KHO KE BEHR E MAUJZAN MEN KHUD BHI HO JA BEKARAAn
JEET LE ULFAT KI BAAZI TU KHUDI KO HAAR KAR

है तक़ाज़ा वक़्त का उट्ठे नया इक इन्क़लाब
तू ज़मीर-ए-ख़्वाबज़न को आज तो बेदार कर
HAI TAQAAZA WAQT KA UTTHE NAYA IK INQELAAB
TU ZAMEER E KHWAABZAN KO AAJ TO BEDAAR KAR

मजमा-ए-अग़यार में खोया रहेगा कब तलक
मुन्फ़रिद है तू तो फिर अपना जुदा मे’यार कर
MAJMA E AGHYAAR MEN KHOYA RAHEGA KAB TALAK
MUNFARID HAI TU TO PHIR APNA JUDAA ME'YAAR KAR

तार है दामन भी तेरा, खो दिया पिनदार भी
क्या तुझे हासिल हुआ अपनी अना को मार कर
TAAR HAI DAAMAN BHI TERA, KHO DIYA PINDAAR BHI
KYA TUJHE HAASIL HUA APNI ANAA KO MAAR KAR

ज़ुल्म के रेग-ए-रवाँ में नूर की बारिश भी ला
है मोहब्बत इक ख़ता तो ये ख़ता हर बार कर
ZULM KE REG E RAWAAN MEN NOOR KI BAARISH BHI LAA
HAI MOHABBAT IK KHATAA TO YE KHATAA HAR BAAR K…

ग़ज़ल - आ गया अब रास मुझ को राह का हर पेच-ओ-ख़म

चित्र
आ गया अब रास मुझ को राह का हर पेच-ओ-ख़म
ले चले हैं साथ मुझ को राह के ये ज़ेर-ओ-बम
AA GAYA AB RAAS MUJH KO RAAH KA HAR PECH O KHAM LE CHALE HAIN SAATH MUJH KO WAQT KE YE ZER O BAM
पेट में रोटी हो तो इंसाँ रहे साबित क़दम डोल ही जाता है ईमाँ जल रहा हो जब शिकम PET MEN ROTI HO TO INSAAn RAHE SAABIT QADAM DOL HI JATA HAI EEMAAn JAL RAHA HO JAB SHIKAM
पढ़ ही लेती हूँ मैं उसके ज़ेहन का इक इक सतर वास्ते इसके नहीं दरकार दिल को जाम-ए-जम PADH HI LETI HOON MAIN US KE ZEHN KI IK IK SATAR WASTE IS KE NAHIN DARKAAR DIL KO JAAM E JAM
इम्तियाज़-ए-बातिल-ओ-हक़ है ख़िरद वालों का काम हम से दीवाने के आगे क्या शिवाला, क्या हरम IMTIYAAZ E BAATIL O HAQ HAI KHIRAD WAALON KA KAAM HAM SE DEEWAANE KE AAGE KYA SHIWAALA KYA HARAM
हर तरफ़ आतिश, तबाही, ख़ून, नफ़रत, साज़िशें किस सियाही से किया है ये वरक़ तूने रक़म HAR TARAF AATISH SIYAAHI KHOON NAFRAT SAAZISHEN KIS SIYAAHI SE KIYA HAI YE WARAQ TU NE RAQAM
क्यूँ ये दिल धड़के, रगों में ख़ून क्यूँ गर्दिश करे ज़िन्दगी करने को हो कोई तो हसरत कम से कम KYUN YE DIL DHADKE, RAGON MEN KHOON KYUN GARDISH KARE ZINDA…