संदेश

April, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - है कर्ब माना बेकराँ, हयात बेक़रार है

है कर्ब माना बेकराँ, हयात बेक़रार है इस एक बेक़रारी में क़रार ही क़रार है HAI KARB MAANA BEKARAA.N HAYAT BEQARAAR HAI
IS EK BEQARAARI MEN QARAAR HI QARAAR HAI

इधर भी एक शो’ला सा दहक रहा है ज़ात में उधर भी राख़ में अभी दबा वही शरार है IDHAR BHI EK SHOLA SA DEHEK RAHA HAI ZAAT MEN
UDHAR BHI RAAKH MEN ABHI DABAA WAHI SHARAAR HAI

खिंचे खिंचे से वो भी हैं खिंचे खिंचे से हम भी हैं ज़रा झुके न सर कहीं, अना का ये वक़ार है KHINCHE KHINCHE SE WO BHI HAIN KHINCHE KHINCHE SE HAM BHI HAIN
ZARA JHUKE NA SAR KAHIN ANAA KA YE WAQAAR HAI

ये बेहिसी अजीब है, नशा बहुत शदीद है अभी मेरे वजूद पे ख़ुमार का हिसार है YE BEKHUDI AJEEB HAI NASHA BAHOT SHADEED HAI
ABHI MERE WAJOOD PE KHUMAAR KA HISAAR HAI

तक़ाज़ा वक़्त का ये है कि मस्लेहत से काम लें बिखेर देगी ज़ात को दिलों में जो दरार है TAQAAZA WAQT KA YE HAI KE MASLEHAT SE KAAM LEN
BIKHER DEGI ZAAT KO DILON MEN JO DARAAR HAI

ये इश्क़ आज ये कहाँ पे ले के हमको आ गया यहाँ हर एक राह में ग़ुबार ही ग़ुबार है YE ISHQ KIS JEGAH PE AAJ LE KE HAM KO AA GAYA
YAHAN HAR EK RAAH MEN GHUBAAR HI GHUBAA…

ग़ज़ल - हलावत होती है थोड़ी सी नफ़रत की मोहब्बत में

हलावत होती है थोड़ी सी नफ़रत की मोहब्बत में बड़ी बारीक सरहद है मोहब्बत और नफ़रत में HALAAWAT HOTI HAI THODI SI NAFRAT KI MOHABBAT MEN BADI BAAREEK SARHAD HAI MOHABBAT AUR NAFRAT MEN
न तेरे इश्क़ की बुनियाद ही गहरी रही इतनी न हम ख़ुद को भुला पाए तेरी आँखों की चाहत में NA TERE ISHQ KI BUNIYAAD HI GEHRI RAHI ITNI NA HAM KHUD KO BHULA PAAE TERI AANKHON KI CHAAHAT MEN
तेरे इल्ज़ाम से हस्ती मेरी मैली नहीं होगी पशेमानी घुली है तेरी इस नाकाम तोहमत में TERE ILZAAM SE HASTI MERI MAILI NAHIN HOGI PASHEMAANI GHULI HAI TERI IS NAAKAAM TOHMAT MEN
हर इक शय महंगी है बस सिर्फ़ इक इंसान सस्ता है मोहब्बत बिकती है यारो यहाँ कौड़ी की क़ीमत में HAR IK SHAY MEHNGI HAI BAS SIRF IK INSAAN SASTA HAI MOHABBAT BIKTI HAI YAARO YAHAN KAUDI KI QEEMAT MEN
सभी औज़ार अपने तेज़ कर ले ऐ मेरे क़ातिल मज़ा आने लगा है अब हमें तेरी अदावत में SABHIAUZAAR APNETEZ KAR LE AYE MERE QAATIL MAZAA AANE LAGA HAI AB HAMEN TERI ADAAVAT MEN
कोई रंगीन गुल भोली मगस को खा भी सकता है छुपी हैं कितनी ही ऐयारियाँ फूलों की निकहत में KOI RANGEEN GUL BHOLI MAGAS KO KHA B…

ग़ज़ल - हम ने उस के दर से तोहफ़े पाए क्या क्या बेमिसाल

हम ने उस के दर से तोहफ़े पाए क्या क्या बेमिसाल बेकराँ रातें हैं पाई,     दर्द पाया लाज़वाल HAM NE US KE DAR SE TOHFE PAAE KYA KYA BEMISAAL BEKARAAN RAATEN HAIN PAAIN DARD PAAYA LAAZAWAAL
बारहा यूँ मात खाई है बिसात-ए-ज़ीस्त पर हम समझ पाए कहाँ क़िस्मत की हर पोशीदा चाल BAARAHA YUN MAAT KHAAI HAI BISAAT E ZEEST PAR HAM SAMAJH PAAE KAHAN YE WAQT KI POSHIDA CHAAL
रख दिया उसने मसल के दिल का इक इक ज़ाविया रात उस बेदर्द से हमने किया था इक सवाल RAKH DIYA US NE MASAL KE DIL KA IK IK ZAAVIYAA RAAT US BEDARD SE HAM NE KIYA THA IK SAWAAL
जाने किन राहों से हो कर गुज़रा था ये क़ाफ़िला है शिकस्ता हर तमन्ना आज ज़ख़्मी है ख़याल JAANE KIN RAAHON SE HO KAR GUZRA THA YE QAAFILAA HAI SHIKASTA HAR TAMANNA AAJ ZAKHMEE HAI KHAYAAL
हम ने बढ़ कर जान से महफ़ूज़ रक्खा था तो फिर इश्क़ के इस आईने में आ गया कैसे ये बाल HAM NE BADH KE JAAN SE MEHFOOZ RAKHA THA TO PHIR ISHQ KE IS AAINE MEN AA GAYA KAISE YE BAAL
सामने है पै ब पै बरबादियों का सिलसिला जाने क्या अंजाम होगा आरज़ू का अबके साल SAAMNE HAI PAI BA PAI BARBAADIYON KA SILSILA JAANE KYA ANJAAM H…

नज़्म - आख़िरी लम्हा

वो बेताब लम्हे, वो बेख़्वाब रातें वो बेख़ौफ़ जुर’अत, वो बेबाक ख़्वाहिश लगा दी है तुम ने मेरे दिल में जानाँ ये कैसी अजब मीठी मीठी सी आतिश WO BETAAB LAMHE WO BEKHWAAB RAATEN WO BEKHAUF JUR'AT WO BEBAAK KHWAAHISH LAGA DI HAI TUM NE MERE DIL MEN JAANAN YE KAISI AJAB MEETHI MEETHI SI AATISH
धनक रंग ख़्वाबों के मसरूर जाले ये साँसों की ख़ुशबू, नज़र के उजाले ये उल्फ़त की ज़ंजीर, बाहों के घेरे ये महकी हुई रौशनी के अंधेरे DHANAK RANG KHWAABON KE MASROOR JAALE YE SAASON KI KHUSHBOO NAZAR KE UJAALE YE ULFAT KI ZANJEER BAAHON KE GHERE YE MEHKI HUI RAUSHNI KE ANDHERE
गिरफ़्तार है ज़हन, तख़ईल क़ैदी ये जज़्बात की शिद्दतों की सज़ा है मगर दिल की हर आरज़ू कह रही है कि इस क़ैद में कुछ अलग ही मज़ा है GIRAFTAAR HAI ZEHN TAKHEEL QAIDI YE JAZBAAT KI SHIDDATON KI SAZAA HAI MAGAR DIL KI HAR AARZOO KEH RAHI HAI KE IS QAID MEN KUCHH ALAG HI MAZAA HAI

धनक – इन्द्र धनुष, मसरूर – नशीला, तख़ईल – कल्पना

ग़ज़ल - अगरचे राज़ ये उससे कभी कहा भी नहीं

अगरचे राज़ ये उससे कभी कहा भी नहीं बिछड़ के उससे तो जीने का हौसला भी नहीं Agarcheraazyeussekabhikahabhi nahin bichhad ke us se to jeene ka hausla bhi nahin
हम अपने अपने वजूदों में फिर सिमट से गए सुना भी उसने नहीं, मैं ने कुछ कहा भी नहीं ham apne apne wajoodon men phir simat se gae suna bhi us ne nahin main ne kuchh kaha bhi nahin
कोई जो रास्ता निकले तो मिट भी सकता है न ख़त्म हो कभी, ऐसा तो फ़ासला भी नहीं koi jo raasta nikle to mit bhi sakta hai na khatm ho jo kabhi aisa faasla bhi nahin
हम अपनी अपनी अना के ग़ुबार में गुम थे पुकारा हम ने नहीं, और वो रुका भी नहीं ham apni apni anaa ke ghubaar men gum the pukaara ham ne nahin aur wo ruka bhi nahin
न कोई ग़म, न उदासी, न बेहिसी, न उम्मीद वो आरज़ू नहीं, यादों का सिलसिला भी नहीं na koi gham na udaasi na behisi na ummeed wo aarzoo nahin yaadon ka silsila bhi nahin
किया है तर्क उसे शान-ए-बेनियाज़ी के साथ कोई उम्मीद नहीं, अब कोई गिला भी नहीं kiya hai tark use shan e beniyaaz ke saath