संदेश

October, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एक क़तआ - तमन्नाएँ पिघलती हैं

हज़ारों ख़्वाहिशें दिल की फ़ज़ाओं में मचलती हैं निगाहों में तुम्हारी दीद की किरनें जो घुलती हैं हमारी रूह तक जलने लगी है दिल की आतिश में मोहब्बत की हरारत से तमन्नाएँ पिघलती हैं hazaaron khwaahishen dil ki fazaaon men machalti hain nigaahon men tumhari deed ki kirnen jo ghulti hain hamaari rooh tak jalne lagi hai dil ki aatish men
mohabbat ki haraarat se tamannaen pighalti hain

ग़ज़ल - इसी दिल में जल्वागर हैं सभी रूह के उजाले

इसी दिल में जल्वागर हैं सभी रूह के उजाले यहीं काबा-ए-मोहब्बत, यहीं इश्क़ के शिवाले
ISI DIL ME.N JALWAGAR HAI.N SABHI ROOH KE UJAALE YAHI.N KAABA E MOHABBAT YAHI.N ISHQ KE SHIWAALE
कहीं क़ुर्बतों में भी है कोई फ़ासला ज़रूरी ये मोहब्बतों की शिद्दत मुझे मार ही न डाले KAHI.N QURBATO.N ME.N BHI HAI KOI FAASLA ZAROORI YE MOHABBATO.N KI SHIDDAT MUJHE MAAR HI NA DAALE
जो अना की कश्मकश में मेरे साथ थे हमेशा यहीं दिल में ख़ेमाज़न हैं उन लम्हों के रिसाले JO ANAA KI KASH MA KASH ME.N MERE SAATH THE HAMESHA YAHI.N DIL ME.N KHEMAZAN HAI.N UN LAMHO.N KE RISAALE
तेरी बेनियाज़ियों से ये सुरूर मर न जाए अभी आरज़ू है बरहम उसे तू ज़रा मना ले TERI BENIYAAZIYO.N SE YE SUROOR MAR NA JAAEY ABHI AARZOO HAI BARHAM USE TU ZARA MANA LE
ये खंडर पड़ा है कब से वीरान कौन जाने यहाँ हर तरफ़ लगे हैं मजबूरीयों के जाले YE KHANDAR PADA HAI KAB SE VEERAAN KAUN JAANE YAHA.N HAR TARAF LAGE HAI.N MAJBOORIYO.N KE JAALE
वहाँ मस्लेहत का यारो कोई दर खुले तो कैसे जहाँ ज़ात पर पड़े हों ख़ुद्दारियों के ताले WAHA.N MASLEHAT KA YAARO KOI DAR KHULE TO KAISE JAH…

ग़ज़ल - दिल की बातें यूँ भी समझो

चित्र
चेहरा पढ़ लो, लहजा देखो
दिल की बातें यूँ भी समझो
CHEHRA PADH LO LEHJA DEKHO DIL KI BAATEN YUN BHI SAMJHO
फिर खोलो यादों की परतें दिल के सारे ज़ख़्म कुरेदो PHIR KHOLO YAADON KI PARTEN DIL KE SAARE ZAKHM KUREDO
अब कुछ दिन जीने दो मुझ को ऐ दिल की बेजान ख़राशो AB KUCHH DIN JEENE DO MUJH KO AEY DIL KI BEJAAN KHARAASHO
रंजिश की लौ माँद हुई है फिर कोई इल्ज़ाम तराशो RANJISH KI LAU MAAND HUI HAI PHIR KOI ILZAAM TARAASHO
सुलगा दो हस्ती का जंगल जलते हुए बेचैन उजालो SULGAA DO HASTI KA JUNGLE JALTE HUE BECHAIN UJAALO
दर्द तुम्हारा भी देखूँगी दम तो लो ऐ पाँव के छालो DARD TUMHARA BHI DEKHUNGI DAM TO LO AYE PAANV KE CHHALO
ख़त्म हुई हर एक बलन्दी ऐ मेरी बेबाक उड़ानो KHATM HUI HAR EK BALANDI AYE MERI BEBAAK UDAANO
तंग दिलों की इस बस्ती में उल्फ़त की ख़ैरात न मांगो TANG DILON KI IS BASTI MEN ULFAT KI KHAIRAAT NA MAANGO
मग़रूरीयत के पैकर पर मजबूरी के ज़ख़्म भी देखो MAGHROOREEAT KE PAIKAR PE MAJBOORI KE ZAKHM BHI DEKHO
हर्फ़ को सच्चा मानी दे कर लफ़्ज़ों का एहसान उतारो HARF KO SACHCHA MAANI DE KAR LAFZON KA EHSAAN UTAARO
थोड़ा तो आराम अता हो ऐ म…

नज़्म - तसव्वर

चित्र
तू कोई रंग है कि ख़ुश्बू है तू कोई ख़्वाब है कि साया है मेरी तनहाई के अँधेरों में जाने कितनी शोआएँ लाया है TU KOI RANG HAI KE KHUSHBOO HAI TU KOI KHWAAB HAI KE SAAYA HAI MERI TANHAAI KE ANDHERON MEN JAANE KITNI SHOAAEN LAAYA HAI
मेरे बिखरे वजूद की किरचें फिर चमक उठ्ठीं कहकशाँ की तरह मेरे अंदर वही तलातुम है फिर किसी बहर-ए-बेकराँ की तरह MERE BIKHRE WAJOOD KI KIRCHEN PHIR CHAMAK UTTHIN KEHKASHAA.N KI TARAH MERE ANDER WAHI TALAATUM HAI PHIR KISI BEHR E BEKARAA.N KI TARAH
फिर तमाज़त का वो ही आलम है दिल में फिर कोई आफ़ताब उठा जिस्म का रेज़ा रेज़ा जल उट्ठा रूह से फिर कोई शेहाब उठा PHIR TAMAAZAT KA WO HI AALAM HAI DIL MEN PHIR KOI AAFTAAB UTHA JISM KA REZA REZA JAL UTTHA ROOH SE PHIR KOI SHEHAAB UTHA
फिर हुई सुब्ह, फिर वो जाग उठी ज़िन्दगी ले रही है अंगड़ाई मेरी क़िस्मत के वीराँ ख़ाने में फिर से होती है बज़्म आराई PHIR HUI SUBH, PHIR WO JAAG UTHI ZINDAGI LE RAHI HAI ANGDAAI MERI QISMAT KE VEERAA.N KHAANE MEN PHIR SE HOTI HAI BAZM AARAAI
ऐ तसव्वर के रंगीं शहज़ादे आ नज़र भर के तुझ को देख तो लूँ ये हसीं ख़्वाब, धनक रंग ख़याल इस तस…