मंगलवार, 24 मई 2011

ग़ज़ल - धड़कने के लिए दिल को तेरा एहसास काफ़ी है

धड़कने के लिए दिल को तेरा एहसास काफ़ी है
मेरे जीने को तेरे प्यार की बू-बास काफ़ी है
DHADAKNE KE LIYE DIL KO TERA EHSAAS KAAFI HAI
MERE JEENE KO TERE PYAR KI BU-BAAS KAAFI HAI

बहल जाएगा दिल उम्मीद के रंगीं खिलौने से
कभी बदलेगी क़िस्मत भी यही इक आस काफ़ी है
BAHEL JAAEGA DIL UMMEED KE RANGEE.N KHILONE SE
KABHI BADLEGI QISMAT BHI YAHI IK AAS KAAFI HAI

मोहब्बत कुछ, अदावत कुछ, ज़रा सी बदगुमानी भी
मुझे ख़ुशियों से क्या लेना, यही इक यास काफ़ी है
MOHABBAT KUCHH ADAAWAT KUCHH ZARA SI BADGUMAANI BHI
MUJHE KHUSHIYON SE KYA LENA YAHI IK YAAS KAAFI HAI

कमी कोई न हो तो हसरतें वीरान हो जाएँ
ग़िना का मोल तय करने को बस इफ़लास काफ़ी है
KAMI KOI NA HO TO HASRATEN VEERAAN HO JAAEN
GHINA KA MOL TAY KARNE KO BAS IFLAAS KAAFI HAI

तरब का ख़ून करने को बहुत है तेरा ग़म जानाँ
जिगर को काटने को एक ही अलमास काफ़ी है
TARAB KA KHOON KARNE KO BAHOT HAI TERA GHAM JAANA.N
JIGAR KO KAATNE KO EK HI ALMAAS KAAFI HAI

जिन्हें तकमील करने में गुज़र जाएँ कई सदियाँ
तमन्नाओं की वो दौलत हमारे पास काफ़ी है
JINHEN TAKMEEL KARNE MEN GUZAR JAAEN KAI SADIYAAN
TAMANNAON KI WO DAULAT HAMAARE PAAS KAAFI HAI

तुम्हारी बेवफ़ाई, मेरा ग़म, मुमताज़ मैं तन्हा
दबी है दिल के गोशे में कहीं इक आस, काफ़ी है
TUMHARI BEWAFAAI, MERA GHAM, 'MUMTAZ' MAIN TANHA
DABI HAI DIL KE GOSHE MEN KAHIN IK AAS, KAAFI HAI


बू-बास सुराग़, निशान, अदावत दुश्मनी, बदगुमानी ग़लतफ़हमी, यास उदासी, ग़िना अमीरी, इफ़लास ग़रीबी, तरब ख़ुशी, अलमास हीरा, तकमील पूरा, गोशा कोना 

सोमवार, 23 मई 2011

तरही ग़ज़ल - दश्त-ओ-सहरा-ओ-समंदर सभी घर ले आए

दश्त-ओ-सहरा-ओ-समंदर सभी घर ले आए
अबके हम बाँध के क़दमों में सफ़र ले आए
DASHT O SEHRA O SAMANDAR SABHI GHAR LE AAE
AB KE HAM BAANDH KE QADMON MEN SAFAR LE AAE

डर के तुग़ियानी से ठहरे हैं जो, कह दो उस ने
हम समंदर में जो उतरे तो गोहर ले आए
DAR KE TUGHYAANI SE THEHRE HAIN JO KEH DO UN SE
HAM SAMANDAR MEN JO UTRE TO GOHAR LE AAE

कब तही दस्त हम आए हैं तेरी महफ़िल से
ज़ख़्म ले आए, कभी ख़ून-ए-जिगर ले आए
KAB TAHI DAST HAM AAE HAIN TERI MEHFIL SE
ZAKHM LE AAE KABHI KHOON E JIGAR LE AAE

हो रही थी अभी परवाज़ बलन्दी की तरफ़
लोग ख़ातिर के लिए तीर-ओ-तबर ले आए
HO RAHI THI ABHI PARWAAZ BALANDI KI TARAF
LOG KHAATIR KE LIYE TEER O TABAR LE AAE

कोई दावा, न इरादा, न तमन्ना, न हुनर
हम में वो बात कहाँ है कि असर ले आए
KOI DAAVA NA IRAADA NA TAMANNA NA HUNAR
HAM MEN WO BAAT KAHAN HAI KE ASAR LE AAE

धज्जियाँ उड़ती रहीं गो मेरे बाल-ओ-पर की
हम ने परवाज़ जो की शम्स-ओ-क़मर ले आए
DHAJJIYAN UDTI RAHIN GO MERE BAAL O PAR KI
HAM NE PARWAAZ JO KI SHAMS O QAMAR LE AAE

है यहाँ कितनी तजल्ली कि नज़र क़ासिर है
मेरे जज़्बात मुझे जाने किधर ले आए
HAI YAHAN KITNI TAJALLI KE NAZAR QAASIR HAI
MERE JAZBAAT MUJHE AAJ KIDHAR LE AAE

देखने भी न दिया जिसने उसे जाते हुए
हम कि हमराह वही दीदा-ए-तर ले आए
DEKHNE BHI NA DIYA JIS NE USE JAATE HUE
HAM KE HAMRAAH WAHI DEEDA E TAR LE AAE

अब यहाँ चारों तरफ़ ख़ून की बारिश होगी
उसने बोए थे जो ख़ंजर वो समर ले आए
AB HAR IK SIMT YAHAN KHOON KI BAARISH HOGI"
"US NE BIE THE JO KHANJAR WO SAMAR LE AAE

राह में अपनी अँधेरों का बसेरा था मगर
हम अँधेरों से भी मुमताज़ सहर ले आए
RAAH MEN APNI ANDHERON KA BASERA THA MAGAR
HAM ANDHERON SE BHI 'MUMTAZ' SAHER LE AAE

दश्त-ओ-सहरा-ओ-समंदर जंगल, रेगिस्तान और सागर, तुग़ियानी लहरों का उतार चढ़ाव, गोहर मोती, तही दस्त ख़ाली हाथ, परवाज़ उड़ान, बलन्दी ऊंचाई, तबर कुल्हाड़ी, गो हालाँकि, शम्स-ओ-क़मर सूरज और चाँद, तजल्ली रौशनी, क़ासिर मजबूर (देख नहीं सकती), हमराह अपने साथ, दीदा-ए-तर भीगी आँख, समर फल, सहर सुबह 

शनिवार, 21 मई 2011

ग़ज़ल - ज़िन्दगी मेरे लिए हो गई बोहताँ जानाँ

ज़िन्दगी मेरे लिए हो गई बोहताँ जानाँ
मुझ पे कितना है बड़ा ये तेरा एहसाँ जानाँ
ZINDAGI MERE LIYE HO GAI BOHTAA.N JAANA.N
MUJH PE KITNA HAI BADA YE TERA EHSAA.N JAANA.N

पहले दिल ज़ख़्मी था अब रूह तलक ज़ख़्मी है
तू ने क्या ख़ूब किया है मेरा दरमाँ जानाँ
PEHLE DIL ZAKHMEE THA AB ROOH TALAK ZAKHMI HAI
TU NE KYA KHOOB KIYA HAI MERA DARMAA.N JAANA.N

तेरे वादे, तेरी क़समें, तेरी उल्फ़त, तेरा दिल
हर हक़ीक़त है मेरे सामने उरियाँ जानाँ
TERE VAADE TERI QASME.N TERI ULAFAT TERA DIL
AB HAQEEQAT HAI MERE WAASTE URIYAA.N JAANA.N

इस कहानी में मेरे ख़ूँ की महक शामिल है
और तेरा नाम है अफ़साने का उनवाँ जानाँ
IS KAHAANI MEN MERE KHOON KI MAHEK SHAAMIL THI
AUR TERA NAAM THA AFSAANE KA UNWAA.N JAANA.N

दिल पे इक अब्र सा छाया था न जाने कब से
आज तो टूट के बरसा है ये बाराँ जानाँ
DIL PE IK ABR SA CHHAYA THA NA JAANE KAB SE
AAJ TO TOOT KE BARSAA HAI YE BARAA.N JAANA.N

इक वही बात जो कानों में कही थी तू ने
दिल अभी तक है उसी बात का ख़्वाहाँ जानाँ
IK WAHI BAAT JO KAANON MEN KAHI THI TU NE
DIL ABHI TAK HAI USI BAAT KA KHWAAHA.N JAANA.N

अब तो ता दूर कहीं कोई नहीं राह-ए-फ़रार
खोल दे अब तो मेरे पाँव से जौलाँ जानाँ
AB TO TAA DOOR KAHIN KOI NAHIN RAAH E FARAAR
KHOL DE AB TO MERE PAANV SE JAULAA.N JAANA.N

बाद अज़ इसके बहुत तंग है जीना लेकिन
फ़ैसला तर्क-ए-तअल्लुक़ का है आसाँ जानाँ
BAAD AZ IS KE BAHOT TANG HAI JEENA LEKIN
FAISLA TARK E TA'ALLUQ KA HAI AASA.N JAANA.N

अब यहाँ आ के जुदा होती हैं राहें अपनी
अब क़राबत का नहीं कोई भी इमकाँ जानाँ
AB YAHAN AA KE JUDA HOTI HAIN RAAHE.N APNI
AB QARAABAT KA NAHIN KOI BHI IMKAA.N JAANA.N

इश्क़ में अब वो जुनूँ माना कि नायाब हुआ
अब ये शय दुनिया में मुमताज़ है अर्ज़ाँ जानाँ
ISHQ MEN AB WO JUNOO.N MAANA KE NAAYAB HUA
AB YE SHAY DUNIYA MEN 'MUMTAZ' HAI ARZAA.N JAANA.N


बोहताँ झूठा आरोप, दरमाँ इलाज, उरियाँ नग्न, अफ़साना कहानी, उनवाँ शीर्षक, अब्र बादल, बाराँ बादल, ख़्वाहाँ इच्छुक, ता दूर दूर तक, राह-ए-फ़रार भागने का रास्ता, जौलाँ बेड़ियाँ, बाद अज़ इसके इसके बाद से, तर्क छोड़ देना, क़राबत नज़दीकी, इमकाँ उम्मीद, नायाब न मिल सक्ने वाली चीज़, शय चीज़, अर्ज़ाँ सस्ती 

शुक्रवार, 20 मई 2011

ग़ज़ल - इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं

इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं
क्या मेरे पास है, क्या क्या है लुटा याद नहीं
IS MUSAAFAT SE HAMEN KYA HAI MILA YAAD NAHIN
KYA MERE PAAS HAI KYA KYA HAI LUTA YAAD NAHIN

जिस के होने से मेरी ज़ात में तुग़ियानी थी
अब तलक कौन मेरे साथ चला याद नहीं
JIS KE HONE SE MERI ZAAT MEN TUGHIYAANI THI
AB TALAK KAUN MERE SAATH CHALA YAAD NAHIN

हम कि राहों के मनाज़िर में हुए गुम ऐसे
कारवाँ जाने कहाँ जा के रुका याद नहीं
HAM TO RAAHON KE MANAAZIR MEN HUE GUM AISE
KAARWAA.N JAANE KAHAN JAA KE RUKA YAAD NAHIN

ये तो है याद कि दिल में थी बड़ी आग मगर
कब ये दिल सर्द हुआ, कब ये बुझा याद नहीं
YE TO HAI YAAD KE DIL MEN THI BADI AAG MAGAR
KAB YE DIL SARD HUA KAB YE BUJHA YAAD NAHIN

वहशतें ऐसी, कि ख़ुद से भी हेरासाँ हैं हम
बेख़ुदी ऐसी कि अपना भी पता याद नहीं
WAHSHATEN AISI KE KHUD SE BHI HERAASA.N HAIN HAM
BEKHUDI AISI KE APNA BHI PATA YAAD NAHIN

आग सी जलती रही दिल की सियाही में मगर
कौन इस आतिश-ए-दोज़ख़ में जला, याद नहीं
AAG SI JALTI RAHI DIL KI SIYAAHI MEN MAGAR
KAUN IS AATISH E DOZAKH MEN JALA YAAD NAHIN

दिल का ये शहर उजड़ जाने का एहसास तो है
हो गई कैसे क़यामत ये बपा याद नहीं
DIL KA YE SHEHR UJAD JAANE KA EHSAAS TO HAI
HO GAI KAISE QAYAAMAT YE BAPAA YAAD NAHIN

मैं ने मिट मिट के निबाहा है मोहब्बत का चलन
कौन कहता है मुझे रस्म-ए-वफ़ा याद नहीं
MAIN NE MIT MIT KE NIBAAHA HAI MOHABBAT KA CHALAN
KAUN KEHTA HAI MUJHE RASM E WAFA YAAD NAHIN

क़र्ज़ मुमताज़ था साँसों का हमारे सर पर
क़र्ज़ कैसे ये किया हम ने अदा याद नहीं
QARZ 'MUMTAZ' THA SAANSON KA HAMAARE SAR PAR
QARZ KAISE YE KIYA HAM NE ADAA YAAD NAHIN


तुग़ियानी लहरों का उतार चढ़ाव, मनाज़िर दृश्य, वहशत घबराहट, हेरासाँ डरा हुआ, बेख़ुदी अपने आप में न होना, सियाही अंधेरा, आतिश-ए-दोज़ख़ नर्क की आग

गुरुवार, 19 मई 2011

GHAZAL-9DHADKANEN CHUBHNE LAGI HAIN DIL MEN ITNA DARD HAI

DHADKANEN CHUBHNE LAGI HAIN DIL MEN ITNA DARD HAI
TOOT'TE DIL KI SADAA BHI AAJ KITNI SARD HAI

IS TAMAAZAT SE ZAMEEN KI HASRATEN KUMHLA GAIN
DHOOP KI SHIDDAT SE CHEHRA HAR SHAJAR KA ZARD HAI

AB KAHAN JAAEN TAMANNAON KI GATHRI LE KE HAM
SHEHR HI DUSHMAN HUA HAI MUNHARIF HAR FARD HAI

IS TARAH AB KE NICHODA HAI MUJHE TAQDEER NE
HASRATEN KHAAMOSH HAIN AB TO LAHOO BHI SARD HAI

BAARAHAA TOOTA HAI MERA YE WAJOOD E SAKHT JAA.N
KYA BATAAEN ZEHN BHI KAISA ANAA PARWARD HAI

JAB BHI DIL ANGDAAI LETA HAI DAHEL JAATI HOON MAIN
KHAUF AATA HAI, KHUSHI BHI KITNI GHAM AAWARD HAI

JUSTJOO KAISI HAI KIS SHAY KI HAI MUJH KO AARZOO
MUSTAQIL BECHAIN RAKHTA HAI, JUNOO.N BEDARD HAI

AISA LAGTA HAI KE SADIYON SE YE DIL VEERAAN HAI
AARZOO'ON PAR JAMI 'MUMTAZ' KAISI GARD HAI

बुधवार, 18 मई 2011

ग़ज़ल - आज सारे क़ुसूर हो जाएँ

आज सारे क़ुसूर हो जाएँ
जमअ अब सब फ़ितूर हो जाएँ
AAJ SAARE QUSOOR HO JAAEN
JAMAA AB SAB FITOOR HO JAAEN

क़ुर्बतें बोझ हो गईं जानाँ
अब ख़मोशी से दूर हो जाएँ
QURBATEN BOJH HO GAIN JAANA.N
AB KHAMOSHI SE DOOR HO JAAEN

इन्क़िसारी से होगा हासिल क्या
अब सरापा ग़ुरूर हो जाएँ
INQISAARI SE HOGA HAASIL KYA
AB SARAAPA GHUROOR HO JAAEN

अद्ल की लाज आज रह जाए
क़त्ल हम बेक़ुसूर हो जाएँ
ADL KI LAAJ AAJ REH JAAE
QATL HAM BEQUSOOR HO JAAEN

अब ये हसरत है हसरतें सारी
लुक़मा-ए-लाशऊर हो जाएँ
AB YE HASRAT HAI HASRATEN SAARI
LUQMA E LAASHAOOR HO JAAEN

इश्क़ मासूम है चलो माना
कुछ ख़ताएँ ज़रूर हो जाएँ
ISHQ MAASOOM HAI CHALO MAANA
KUCHH KHATAAEN ZAROOR HO JAAEN

ज़र्ब ऐसी पड़े हक़ीक़त की
ख़्वाब सब चूर चूर हो जाएँ
ZARB AISI PADE HAQEEQAT KI
KHWAAB SAB CHOOR CHOOR HO JAAEN

इतना तप जाएँ हर अज़ीयत में
ख़ुद ही मुमताज़ नूर हो जाएँ
ITNA TAP JAAEN HAR AZEEAT MEN
KHUD HI 'MUMTAZ' NOOR HO JAAEN



जमअ इकट्ठा, क़ुर्बतें नज़दीकियाँ, इन्किसारी बहुत झुक कर मिलना, सरापा सर से पाँव तक, अद्ल न्याय, हसरत इच्छा, लुक़मा कौर, लाशऊर - अचेतन, ज़र्ब चोट, अज़ीयत तकलीफ़

मंगलवार, 17 मई 2011

ग़ज़ल - दिलों के आईने टुकड़ों में बँट गए आख़िर

दिलों के आईने टुकड़ों में बँट गए आख़िर
हम अपनी अपनी अना में सिमट गए आख़िर
 DILON KE AAINE TUKDON MEN BAT GAE AAKHIR
HAM APNI APNI ANAA MEN SIMAT GAE AAKHIR

कहीं मिला न कोई जब निशान मंज़िल का
तो आधी राह से वापस पलट गए आख़िर
KAHIN MILA NA KOI JAB NISHAAN MANZIL KA
TO AADHI RAAH SE WAAPAS PALAT GAE AAKHIR

तो फ़ैसला भी मुक़द्दर का कर दिया उसने
गुमान के सभी बादल भी छंट गए आख़िर
TO FAISLA BHI MUQADDAR KA KAR DIYA US NE
GUMAAN KE SABHI BAADAL BHI CHHAT GAE AAKHIR

समा सका न ज़हन में ग़ुबार था इतना
कोई तो ज़ब्त की हद थी कि फट गए आख़िर
SAMAA SAKA NA ZEHN MEN GHUBAAR THA ITNA
KOI TO ZABT KI HAD THI KE PHAT GAE AAKHIR

ख़ुशी की आख़िरी मंज़िल भी पार हो ही गई
ग़ुबार से वो सभी ख़्वाब अट गए आख़िर
KHUSHI KI AAKHIRI MANZIL BHI PAAR HO HI GAI
GHUBAAR SE WO SABHI KHWAAB AT GAE AAKHIR

गुज़र के आए हैं माज़ी के खंडरों से अभी
कि हम से यादों के साए लिपट गए आख़िर
GUZAR KE AAE HAIN MAAZI KE KHANDARON SE ABHI
KE HAM SE YAADON KE SAAE LIPAT GAE AAKHIR

ज़मीं अभी भी बहुत कम है नफ़रतों के लिए
वफ़ा के सारे समंदर भी पट गए आख़िर
ZAMEE.N ABHI BHI BAHOT KAM HAI NAFRATON KE LIYE
WAFAA KE SAARE SAMANDAR BHI PAT GAE AAKHIR

चलो, तुम्हारी ख़ुशी है तो आज ये भी सही
तुम्हारी राह से हम आज हट गए आख़िर
CHALO TUMHARI KHUSHI HAI TO AAJ YE BHI SAHI
TUMHARI RAAH SE HAM AAJ HAT GAE AAKHIR

भरम जो टूटा अना का तो ये नतीजा हुआ
हम अपने आप से मुमताज़ कट गए आख़िर
BHARAM JO TOOTA ANAA KA TO YE NATEEJA HUA
HAM APNE AAP SE 'MUMTAZ' KAT GAE AAKHIR


अना अहं, खंडर खंडहर 

सोमवार, 16 मई 2011

ग़ज़ल - कब ज़मीं हामी है मेरी, कब फ़लक बरहम नहीं

कब ज़मीं हामी है मेरी, कब फ़लक बरहम नहीं
सामने हालात के मेरी जबीं भी ख़म नहीं
KAB ZAMEEN HAAMI HAI MERI KAB FALAK BARHAM NAHIN
SAAMNE HAALAAT KE MERI JABEE.N BHI KHAM NAHIN

जानलेवा हैं बहुत यादों की ये बेचैनियाँ
भूल जाने में भी लेकिन कुछ अज़ीयत कम नहीं
JAANLEWA HAIN BAHOT YAADON KI YE BECHAINIYAAN
BHOOL JAANE MEN BHI LEKIN KUCHH AZEEAT KAM NAHIN

लातअल्लुक़ हूँ मैं अपनी ज़िन्दगी से यूँ कि अब
ग़म नहीं तक़दीर का, एहसास का मातम नहीं
LAATA'ALLUQ HOON MAIN APNI ZINDAGI SE YUN KE AB
GHAM NAHIN TAQDEER KA EHSAAS KA MAATAM NAHIN

उड़ रही हैं धज्जियाँ नाकाम जज़्बों की मगर
तुम को भी परवा नहीं, हम को भी कोई ग़म नहीं
UD RAHI HAIN DHAJJIYAN NAAKAAM JAZBON KI MAGAR
TUM KO BHI PARWA NAHIN MUJH KO BHI KOI GHAM NAHIN

ले गया वो साथ सारी रौनक़ें, हर इक ख़ुशी
दे गया रंज-ओ-अलम, ये भी इनायत कम नहीं
LE GAYA WO SAATH SAARI RAUNAQEN HAR IK KHUSHI
DE GAYA RANJ O ALAM YE BHI INAAYAT KAM NAHIN

धूप की शिद्दत से चेहरा हर शजर का ज़र्द है
है ज़मीं मुर्दा, बहारों का हसीं मौसम नहीं
DHOOP KI SHIDDAT SE CHEHRA HAR SHAJAR KA ZARD HAI
HAI ZAMEE.N MURDA BAHARON KA HASEE.N MAUSAM NAHIN

तश्नगी ऐसी कि शबनम भी समंदर है मुझे
बेहिसी ऐसी कि दिल ख़ामोश, आँखें नम नहीं
TASHNAGI AISI KE SHABNAM BHI SAMANDAR HAI MUJHE
BEHISI AISI KE DIL KHAAMOSH AANKHEN NAM NAHIN

आरज़ू मुमताज़ मुझ से मुंह छुपाती है कि अब
मर चुकी हर तश्नगी अब प्यास का आलम नहीं
AARZOO 'MUMTAZ' MUJH SE MUNH CHHUPAATI HAI KE AB
MAR CHUKI HAR TASHNAGI AB PYAAS KA AALAM NAHIN


हामी समर्थक, फ़लक आसमान, बरहम नाराज़, जबीं माथा, ख़म झुका हुआ, अज़ीयत तकलीफ़, लातअल्लुक़ असंबंधित, रंज-ओ-अलम दुख और दर्द, शिद्दत तेज़ी, शजर पेड़, ज़र्द पीला, तश्नगी प्यास, बेहिसी भावना शून्यता, आरज़ू इच्छा 

सोमवार, 9 मई 2011

नज़्म - क्यूँ

ये कैसा दर्द है
कैसी कसक है
ये क्यूँ हर पल तेरी यादें
मुझे बेचैन करती हैं
मेरे राहतकदे में
क्यूँ ये उलझन बढ़ती जाती है
ये कैसा राब्ता है
तेरे एहसास का इस दर्द से
क्यूँ चुभ रही हैं तेरी साँसें मेरे चेहरे पर
मेरी हस्ती कहाँ गुम होती जाती है
अना ख़ामोश क्यूँ है
ये जुनूँ को क्या हुआ
ज़िद क्यूँ हेरासां है  
YE KAISA DARD HAI
KAISI KASAK HAI
YE KYUN HAR PAL TERI YAADEN
MUJHE BECHAIN RAKHTI HAIN
MERE RAAHATKADE MEN
KYUN YE ULJHAN BADHTI JAATI HAI
YE KAISA RAABTA HAI
TERE EHSAAS KA IS DARD SE
KYUN CHUBH RAHI HAIN TERI SAANSEN MERE CHEHRE PAR
MERI HASTI KAHAN GUM HOTI JAATI HAI
ANAA KHAAMOSH KYUN HAI
YE JUNOO.N KO KYA HUA

ZID KYUN HERAASAA.N HAI

मंगलवार, 3 मई 2011

ग़ज़ल - मुझ में क्या तेरे तसव्वर के सिवा रह जाएगा



मुझ में क्या तेरे तसव्वर के सिवा रह जाएगा
सर्द सा इक रंग फैला जा ब जा रह जाएगा
MUJH MEN KYA TERE TASAWWAR KE SIWA REH JAAEGA
SARD SA IK RANG PHAILA JAA BA JAA REH JAAEGA

कर तो लूँ तर्क-ए-मोहब्बत लेकिन उसके बाद भी
कुछ अधूरी ख़्वाहिशों का सिलसिला रह जाएगा
KAR TO LOON TARK E MOHABBAT LEKIN US KE BAAD BHI
KUCHH ADHOORI KHWAAHISHON KA SILSILA REH JAAEGA

कारवाँ तो खो ही जाएगा ग़ुबार-ए-राह में
दूर तक फैला हुआ इक रास्ता रह जाएगा
KAARWAAN TO KHO HI JAAEGA GHUBAAR E RAAH MEN
DOOR TAK PHAILA HUA IK RAASTA REH JAAEGA

टूट जाएंगी उम्मीदें, पस्त होंगे हौसले
एक तन्हा आदमी बेदस्त-ओ-पा रह जाएगा
TOOT JAAENGI UMMEEDEN PAST HONGE HAUSLE
EK TANHA AADMI BE DAST O PAA REH JAAEGA

मैं अगर अपनी ख़मोशी को अता कर दूँ ज़ुबाँ
हैरतों के दायरों में तू घिरा रह जाएगा
MAIN AGAR APNI KHAMOSHI KO ATAA KAR DOON ZUBAA.N
HAIRATON KE DAAIRON MEN TU GHIRA REH JAAEGA

रुत भी बदलेगी, बहारें आ भी जाएँगी मगर
इस ख़िज़ाँ का राज़ चेहरे पर लिखा रह जाएगा
RUT BHI BADLEGI BAHAAREN AA BHI JAAENGI MAGAR
IS KHIZAA.N KA RAAZ CHEHRE PE LIKHA REH JAAEGA

हाफ़िज़े से नक़्श यूँ ही मिटते जाएँगे अगर
दूर तक नज़रों में इक दश्त-ए-बला रह जाएगा
HAAFIZE SE NAQSH YUN HI MIT'TE JAAENGE AGAR
DOOR TAK NAZRON MEN IK DASHT E BALAA REH JAAEGA

अपना सब कुछ खो के पाया है तुझे मुमताज़ ने
खो गया तू भी तो मेरे पास क्या रह जाएगा
APNA SAB KUCHH KHO KE PAAYA HAI TUJHE 'MUMTAZ' NE
KHO GAYA TU BHI AGAR TO AUR KYA REH JAAEGA


तसव्वर - कल्पना, जा ब जा जगह जगह, तर्क-ए-मोहब्बत मोहब्बत का त्याग, बेदस्त-ओ-पा बिना हाथ पाँव के, ख़िज़ाँ पतझड़, हाफ़िज़ा याददाश्त, दश्त-ए-बला मुसीबत का जंगल 

ये कैसा दर्द है

ये कैसा दर्द है कैसी कसक है ये क्यूँ हर   पल   तेरी   यादें मुझे बेचैन रखती हैं तेरी आँखें मेरे दिल पर वफ़ा का नाम लिखती हैं ये ...