संदेश

July, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - मुक़द्दर आज़माना चाहती हूँ

चित्र
मुक़द्दर आज़माना चाहती हूँ
तुम्हें तुमसे चुराना चाहती हूँ
MUQADDAR AAZMAANA CHAAHTI HOON
TUMHEN TUM SE CHURAANA CHAAHTI HOON

ज़रा यादों मुझे तन्हा भी छोड़ो
मैं दो पल मुसकराना चाहती हूँ
ZARA YAADO MUJHE TANHA BHI CHHODO
MAIN DO PAL MUSKRAANA CHAAHTI HOON

ये गर्दिश ही निभा पाई न मुझ से
मैं इससे भी निभाना चाहती हूँ
YE GARDISH HI NIBHA PAAI NA MUJH SE
MAIN IS SE BHI NIBHAANA CHAAHTI HOON

ये दौलत ज़िन्दगी की रायगाँ है
इसे मैं अब लुटाना चाहती हूँ
YE DAULAT ZINDAGI KI RAAYGAA.N HAI
MAIN AB IS KO LUTAANA CHAAHTI HOON

तराशे जाती है क़िस्मत मुझे और
मैं वो पैकर पुराना चाहती हूँ
TARAASHE JAATI HAI QISMAT MUJHE AUR
MAIN WO PAIKAR PURAANA CHAAHTI HOON

बसा है काबा-ए-दिल में जो अब भी
वो बुत मैं अब गिराना चाहती हूँ
BASA HAI KAABA E DIL MEN JO AB BHI
WO BUT MAIN AB GIRAANA CHAAHTI HOON

ज़रा कुछ ख़्वाब तो तामीर कर लूँ
मैं इक बस्ती बसाना चाहती हूँ
ZARA KUCHH KHWAAB TO TAAMIR KAR LOON
MAIN IK BASTI BASAANA CHAAHTI HOON

घड़ी भर की भी राहत के लिए मैं
हर इक क़ीमत चुकाना चाहती हूँ
GHADI BHAR KI BHI RAAHAT KE LIYE MAIN
HAR IK QEEMAT C…

GHAZAL-24HAM NE APNE BAAM O DAR IS LIYE SAJAAEY HAIN

Meri behen Rashmi Badshah ne mujhe ye misra diya, "justju pehen kar ham jab bhi ghar tak aaey hain", aur is par ghazal kehne ka israar kiya, mulaahiza farmaaiye



HAM NE APNE BAAM O DAR IS LIYE SAJAAEY HAIN

RAUNAQON KE DAAMAN MEN SAARE GHAM CHHUPAAEY HAIN



HAUSLE MUQADDAR KE KHOOB AAZMAAEY HAIN

CHUPKE CHUPKE KUCHH LAMHE WAQT SE CHURAAEY HAIN



BEREHEM HAQEEQAT NE JAB BHI APNE PAR TOLE

ZEHN KI ZAMEE.N PAR KUCHH KHWAAB JHILMILAAEY HAIN



KOI SHAR KOI SAAZISH HAM SE BACH NAHIN SAKTI

WAQT KI RAWISH PAR BHI HAM NAZAR JAMAAEY HAIN



IN MEN KAL HQEEQAT KE PHAL ZAROOR AAEYNGE

AAJ HAM NE KHWAABON KE PED JO LAGAAEY HAIN



AANE WALI NASLON KI REHNUMAAI KI KHAATIR

RAASTON PE KUCHH HAM NE NAQSH BHI BANAAEY HAIN



MAZMARAAT E HASTI SE YE KASHISH MILI HAM KO

JAANE KITNE AFSAANE DIL MEN HAM DABAAEY HAIN



KAUN SI QAYAAMAT YE AAJ IN PE TOOTI HAI

HASRATEN YE KYUN SAR PE AASMAA.N UTHAAEY HAIN



YE NAHIN KE KHUSHIYAAN HI JASHN YE MANAATI HON

JAB BAHAAR AAI HAI GHAM BHI MUSKRAAEY HAIN



SIRF APNA HAQ HI TO HAM NE…

ग़ज़ल - ऐसा जमूद रूह पे तारी हुआ कि बस

चित्र
ऐसा जमूद रूह पे तारी हुआ कि बस कुछ यूँ चली बहार में ठंडी हवा, कि बस
AISA JAMOOD ROOH PE TAARI HUA KE BAS KUCHH YUN CHALI BAHAAR MEN THANDI HAWA KE BAS
घबरा के इब्तेदा ही में क्यूँ कर दिया कि बस “कुछ और भी सुनोगे मेरा माजरा कि बस” GHABRA KE IBTEDA HI MEN KYUN KEH DIYA KE BAS "KUCHH AUR BHI SUNOGE MERA MAAJRA KE BAS"
हम तो किसी सितम का गिला भी न कर सके कुछ इस तरह से उसने कहा मुद्दुआ कि बस HAM TO KISI SITAM KA GILA BHI NA KAR SAKE KUCHH IS TARAH SE US NE KAHA MUDDA'AA KE BAS
जश्न-ए-क़ज़ा-ए-मेहर-ए-मुनव्वर था शाम को ऐसी चमक रही थी उरूसी क़बा कि बस JASHN E QAZAA E MEHR E MUNAWWAR THA SHAM KO AISI CHAMK RAHI THI UROOSI QABAA KE BAS
मजबूरियों का कोह-ए-गराँ तोड़ते हुए ऐसे हुए शिकस्ता मेरे दस्त-ओ-पा, कि बस MAJBOORIYON KA KOH E GARAA.N TODTE HUE AISE HUE SHIKASTA MERE DAST O PAA KE BAS
गिर कर बलन्दियों से ज़मीं पर बिखर गए टूटा ख़ुमार-ए-ज़ात तो ऐसा लगा कि बस GIR KAR BALANDIYON SE ZAMEE.N PAR BIKHAR GAEY TOOTA KHUMAAR E ZAAT TO AISA LAGA KE BAS
उस की इनायतें भी अज़ाबों से कम न थीं वो इंतेहा ख़ुलूस की, कहन…

नज़्म - हिसाब

हिसाब – हिस्सा पहला
सभी यादें, सभी सपने, सभी अरमान ले जाओ मेरी तुम ज़िन्दगी से अपना सब सामान ले जाओ
वो रौशन दिन, उरूसी शाम, वो सब चांदनी रातें वो खुशियाँ, वो सभी सरगोशियाँ, सब रेशमी बातें बहारों से सजा आँगन, सितारों से सजी राहें मोहब्बत के सभी नग़्मे, वो हसरत की सभी आहें तुम्हारी मुन्तज़िर वो धडकनें, जो अब भी ज़िंदा हैं वो सारे नक्श, जो दिल की ज़मीं पर अब भी ताज़ा हैं वो माज़ी की सुनहरी ख़ाक भी ले जाओ तुम आ कर धड़कते लम्हों की इम्लाक भी ले जाओ तुम आ कर
अभी तक मेरे बिस्तर पर पड़ी है लम्स की ख़ुशबू अभी तक दिल पे क़ाबिज़ है तुम्हारे प्यार का जादू तुम्हारी गुफ़्तगू के रंग बिखरे हैं समाअत पर तुम्हारी रेशमी आवाज़ का साया है फ़ुरसत पर सभी वादे, सभी क़समें, वो झूठा सच अक़ीदत का नशा वो बेक़रारी का, वो बिखरा ख़्वाब उल्फ़त का मेरी हर एक धड़कन, जो तुम्हारी अब भी क़ैदी है नफ़स का तार वो उलझा जो निस्बत से तुम्हारी है मेरे दिल की हर इक धड़कन, मेरी हर सांस ले जाओ तुम अपनी हर अमानत, अपना हर एहसास ले जाओ
वो ज़ंजीरें वफ़ा की, इश्क़ का ज़िन्दान ले जाओ मेरी तुम ज़िन्दगी से अपना सब सामान ले जाओ
हिसाब – हिस्सा दूसरा
मेरी राहत, मेरी नींदें…

ग़ज़ल - बहारों के लहू से प्यास बुझती है ख़िज़ाओं की

हवस हर लम्हा बढ़ती जाती है हम ग़मफ़नाओं की बहारों के लहू से प्यास बुझती है ख़िज़ाओं की
HAWAS HAR LAMHAA BADHTI JAATI HAI AB GHAM FANAAON KI BAHAARON KE LAHOO SE PYAS BUJHTI HAI KHIZAAON KI
मेरी गुफ़्तार की क़ीमत चुकानी तो पड़ी मुझको ख़मोशी भी तो तेरी मुस्तहक़ ठहरी सज़ाओं की MERI GUFTAAR KI QEEMAT CHUKAANI TO PADI MUJH KO KHAMOSHI BHI TO TERI MUSTAHAQ THEHRI SAZAAON KI
कोई आवाज़ अब कानों में दाख़िल ही नहीं होती समाअत अब तलक तालिब है तेरी ही सदाओं की KOI AAWAAZ AB KAANON MEN DAAKHIL HI NAHIN HOTI SAMAA'AT AB TALAK TAALIB HAI TERI HI SADAAON KI
मुक़द्दर की ये तारीकी, सफ़र ये तेरी यादों का चमक उठती हैं राहें रौशनी से ज़ख़्मी पाओं की MUQADDAR KI YE TAARIKI SAFAR YE TERI YAADON KA CHAMAK UTHTI HAIN RAAHEN ROSHNI SE ZAKHMEE PAAON KI
मरज़ ये लादवा है अब क़ज़ा के साथ जाएगा मरीज़-ए-ज़िन्दगी को अब ज़रूरत है दुआओं की MARAZ YE LAADAVAA TO AB QAZA KE SAATH JAAEGA MAREEZ E ZINDGI KO AB ZAROORAT HAI DUAAON KI
मैं हूँ मायूस राहों से तो राहें सर ब सजदा हैं कि मंज़िल चूमती है धूल बढ़ कर मेरे पाओं की MAIN HUN MAAYUS RAAHON SE TO RAAHEN…

ग़ज़ल - मोहब्बतों के देवता न अब मुझे तलाश कर

फ़ना हुईं वो हसरतें, वो दर्द खो चुका असर मोहब्बतों के देवता न अब मुझे तलाश कर
FANA HUIN WO HASRATE.N WO DARD KHO CHUKA ASAR MOHABBATO.N KE DEVTA NA AB MUJHE TALAASH KAR
भटक रही है गुफ़्तगू, समाअतें हैं मुंतशर न जाने किसकी खोज में है लम्हा लम्हा दर ब दर BHATAK RAHI HAI GUFTGU SAMAA'ATEN HAIN MUNTSHAR NA JAANE KIS KI KHOJ MEN HAI LAMHA LAMHA DAR BA DAR
ये ख़िल्वतें, ये तीरगी, ये शब है तेरी हमसफ़र इन आरज़ी ख़यालों के लरज़ते सायों से न डर YE KHILWATE.N, YE TEERGI, YE SHAB HAI TERI HAMSAFAR IN AARZI KHAYAALON KE LARAZTE SAAYON SE NA DAR
हयात-ए-बेपनाह पर हर इक इलाज बेअसर हैं वज्द में अलालतें, परेशाँ हाल चारागर HAYAAT E BEPANAAH PE HAR IK ILAAJ BE ASAR HAIN WAJD ME.N ALAALATEN PARESHA.N HAAL CHAARAGAR
बना है किस ख़मीर से अना का क़ीमती क़फ़स तड़प रही हैं राहतें, असीर हैं दिल-ओ-नज़र BANA HAI KIS KHAMEER SE ANAA KA QEEMTI QAFAS TADAP RAHI HAIN RAAHTE.N ASEER HAIN DIL O NAZAR
पड़ी है मुंह छुपाए अब हर एक तश्ना आरज़ू तो जुस्तजू भी थक गई, तमाम हो गया सफ़र PADI HAI MUNH CHHUPAAE AB HAR EK TASHNA AARZOO TO JUSTJU BHI THAK GAI T…