संदेश

June, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - बेचैनी जब हद से बढ़ी हर ख़्वाब अधूरा तोड़ दिया

बेचैनी जब हद से बढ़ी हर ख़्वाब अधूरा तोड़ दिया हर हसरत, हर रंज-ओ-अलम को मैं ने पीछे छोड़ दिया
BECHAINI JAB HAD SE BADHI HAR KHWAAB ADHOORA TOD DIYA HAR HASRAT HAR RANJ O ALAM KO MAIN NE PEECHHE CHHOD DIYA
जोश-ए-जुनूँ जब रक़्स में आया हर दीवार गिरा डाली हाइल थी जो राह में मुश्किल उस को बढ़ कर तोड़ दिया JOSH E JUNOO.N JAB RAQS MEN AAYA HAR DEEWAR GIRA DAALI HAAIL THI JO RAAH MEN MUSHKIL US KO BADH KAR TOD DIYA
जलती राह पे चलने से जब पावों ने इंकार किया फिर मचली है, ज़िद ने मेरी फिर से छालों को फोड़ दिया JALTI RAAH PE CHALNE SE JAB PAAON NE INKAAR KIYA PHIR MACHLI HAI ZID NE MERI PHIR SE CHHAALON KO PHOD DIYA
नश्शा था पुरकैफ़ कि हमने क़तरा क़तरा पी डाला बदज़न है अब ज़ीस्त कि हम ने हर इक दर्द निचोड़ दिया NASSHA THA PURKAIF KE HAM NE QATRA QATRA PEE DAALA BADZAN HAI AB ZEEST KE HAM NE HAR IK DARD NICHOD DIYA
जलते हुए सहरा के मंज़र आँखों में जब चुभने लगे देखो तो हमने कैसे हर चाहत का रुख़ मोड़ दिया JALTE HUE SEHRA KE MANZAR AANKHON MEN JAB CHUBHNE LAGE DEKHO TO HAM NE KAISE HAR CHAAHAT KA RUKH MOD DIYA
टूटे फूटे बिखरे …

ग़ज़ल - रातों की सियाही पीने को ऐ काश कोई मेहताब तो हो

रातों की सियाही पीने को ऐ काश कोई मेहताब तो हो साँसें हैं तो जीना पड़ता है, जीने के लिए इक ख़्वाब तो हो
RAATO.N KI SIYAAHI PEENE KO AYE KAASH KOI MEHTAAB TO HO SAANSE.N HAIN TO JEENA PADTA HAI JEENE KE LIYE IK KHWAAB TO HO
आहट न कोई आवाज़ है अब ख़ामोश है अब तो रूह तलक ये तार-ए-नफ़स गा उठ्ठेगा, हाथों में कोई मिज़राब तो हो AAHAT NA KOI AAWAAZ HAI AB, KHAAMOSH HAI AB TO ROOH TALAK YE TAAR E NAFAS GAA UTTHEGA HAATHO.N ME.N KOI MIZRAAB TO HO
आएगा मज़ा क्या ख़ाक यहाँ उस पार उतरने का यारो कश्ती को डुबोने की ख़ातिर बेताब कोई गिर्दाब तो हो AAEGA MAZAA KYA KHAAK YAHA.N US PAAR UTARNE KAA YAARO KASHTI KO DUBONE KI KHAATIR BETAAB KOI GIRDAAB TO HO
बस साँस ही लेने को साहब जीना तो नहीं कह सकते हैं सीने में ख़लिश तो लाज़िम है, आँखों में ज़रा सा आब तो हो BAS SAANS HI LENE KO SAAHAB JEENA TO NAHIN KEH SAKTE HAIN SEENE ME.N KHALISH BHI LAAZIM HAI AANKHO.N ME.N ZARA SA AAB TO HO
अब इश्क़ नहीं हम को उससे, हम से है अबस ये उसका गिला हम जान निछावर कर देंगे उस में वो सिफ़त नायाब तो हो AB ISHQ NAHIN HAM KO US SE HAM SE HAI ABAS YE …

GHAZAL-18DAM BA DAM KHAUL RAHA HAI MUJH MEN

DAM BA DAM KHAUL RAHA HAI MUJH MEN EK LAAVA SA DABAA HAI MUJH MEN
AB BHI HAIN CHAND DHADKANEN DIL MEN AB BHI IK KHWAAB BACHAA HAI MUJH MEN
TOOT JAAE NA ZABT KI YE FASEEL KOI TOOFAA.N SA RUKA HAI MUJH MEN
RANG BIKHRE HUE HAIN DOOR TALAK KUCHH TO HAI, KUCHH TO KHILA HAI MUJH MEN
SHOLA REZON SE KHELNA CHAAHE

ग़ज़ल - सफ़र अंजान था, वीरान राहें थीं, अंधेरा था

सफ़र अंजान था, वीरान राहें थीं, अंधेरा था यक़ीं जिस पर किया हमने वो रहज़न था, लुटेरा था SAFAR ANJAAN THA VEERAAN RAAHEN THIN ANDHERA THA YAQEE.N JIS PAR KIYA HAM NE WO REHZAN THA LUTERA THA
सिमटने का कोई इमकान ही बाक़ी न छोड़ा था हवस ने ज़िन्दगी का पारा पारा यूँ बिखेरा था SIMATNE KA KOI IMKAAN HI BAAQI NA CHHODA THA HAWAS NE ZINDAGI KA PARA PARA YUN BIKHERA THA
हमारी ज़ात में सीमाब की तासीर रक्खी थी हमारी हर नफ़स में एक तुग़ियानी का डेरा था HAMARI ZAAT MEN SEEMAAB KI TAASEER RAKKHI THI HAMAARI HAR NAFAS MEN EK TUGHIYAANI KA DERA THA
कभी आसेब ये आबाद रहने ही न देता था दिल-ए-वीराँ के खंडर में किसी हसरत का फेरा था KABHI AASEB YE AABAAD REHNE HI NA DETA THA DIL E VEERAA.N KE KHANDAR MEN KISI HASRAT KA PHERA THA
यहीं घुट घुट के मरने को रही मजबूर हर ख़्वाहिश हमारी ज़ात के चारों तरफ़ वहशत का घेरा था YAHIN GHUT GHUT KE MARNE KO RAHI MAJBOOR HAR KHWAAHISH HAMAARI ZAAT KE CHAARON TARAF WAHSHAT KA GHERA THA
उरूसी शाम का दिल भी यक़ीनन पारा पारा था शफ़क़ ने आस्माँ के रुख़ पे ख़ून-ए-दिल बिखेरा था UROOSI SHAAM KA DIL BHI YAQE…

ग़ज़ल - हवा के रक़्स से पानी के साए टूट जाते हैं

हवा के रक़्स से पानी के साए टूट जाते हैं हक़ीक़त की ज़मीं पर गिर के सपने टूट जाते हैं HAWA KE RAQS SE PAANI KE SAAE TOOT JAATE HAIN HAQEEQAT KI ZAMEE.N PE GIR KE SAPNE TOOT JAATE HAIN
बलन्दी रोज़ तो मिलती नहीं फ़नकार के फ़न को कोई शहकार बनता है तो साँचे टूट जाते हैं BALANDI ROZ TO MILTI NAHIN FUNKAAR KE FUN KO KOI SHEHKAAR BANTA HAI TO SAANCHE TOOT JAATE HAIN
तराशा करता है ख़िल्वत में ज़हन-ए-बेकराँ जिनको तसव्वर के वो पैकर गाहे गाहे टूट जाते हैं TARASHA KARTA HAI KHILWAT MEN ZEHN E BEKARAA.N JIN KO TASAWWAR KE WO PAIKAR GAAHE GAAHE TOOT JAATE HAIN
हों कितने भी सुनहरे, ख़्वाब तो फिर ख़्वाब होते हैं कि ज़र्ब-ए-मस्लेहत से सारे वादे टूट जाते हैं HON KITNE BHI SUNEHRE KHWAAB TO PHIR KHWAAB HOTE HAIN KE ZARB E MASLEHAT SE SAARE VAADE TOOT JAATE HAIN
तड़पती है जो वहशत, बेड़ियाँ जब चीख़ उठती हैं दर-ए-ज़िन्दान के फिर सारे क़ब्ज़े टूट जाते हैं TADAPTI HAI JO WAHSHAT BEDIYAA.N JAB CHEEKH UTHTI HAIN DAR E ZINDAAN KE PHIR SAARE QABZE TOOT JAATE HAIN
इरादों के परों पर हसरतें परवाज़ करती हैं जुनूँ जब रक़्स करता है, सितारे टूट जात…

ग़ज़ल - बिखर जाए न ऐ जानम मोहब्बत का ये शीराज़ा

लहू अब तक टपकता है, अभी हर ज़ख़्म है ताज़ा बिखर जाए न ऐ जानम मोहब्बत का ये शीराज़ा LAHOO AB TAK TAPAKTA HAI ABHI HAR ZAKHM HAI TAAZA BIKHAR JAAE NA AYE JAANAM MOHABBAT KA YE SHEERAZA
अगर उस पार जाना है तो लहरों में उतर जाओ किनारों से कहाँ हो पाएगा तूफ़ाँ का अंदाज़ा AGAR US PAAR JAANA HAI TO LEHRON MEN UTAR JAAO KINAARON SE KAHAN HO PAAEGA LEHRON KA ANDAAZA
सियाही फैलती जाएगी आख़िर को फ़ज़ाओं में अभी तो सज रहा है रात के रुख़सार पर ग़ाज़ा SIYAAHI PHAILTI JAAEGI AAKHIR KO FAZAAON MEN ABHI TO SAJ RAHA HAI RAAT KE RUKHSAAR PE GHAAZA
कोई कोहसार था शायद हमारी राह में हाइल पलट आई सदा काविश की, अरमानों का आवाज़ा KOI KOHSAAR THA SHAAYAD HAMAARI RAAH MEN HAAIL PALAT AAI SADA KAAVISH KI ARMAANON KA AAWAZA
बिखरना, टूटना, बनना, संवरना, फिर बिगड़ जाना उठाना ही पड़ेगा ज़ीस्त को हसरत का ख़मियाज़ा BIKHARNA TOOTNA BAN NA SANWARNA PHIR BIGAD JAANA UTHAANA HI PADEGA ZEEST KO HASRAT KA KHAMIYAAZA
ये तूफ़ाँ तो हमारी ज़ात के अंदर उतर आया कहा किसने उम्मीदों से, खुला रक्खें वो दरवाज़ा YE TOOFAA.N TO HAMAARI ZAAT KE ANDAR UTAR AAYA KAHA KIS NE …

ग़ज़ल - इक निवाला न गया दहन में मेहनत के बग़ैर

इक निवाला न गया दहन में मेहनत के बग़ैर कोई शय मिलती नहीं दहर में ज़हमत के बग़ैर  
IK NIWAALA NA GAYA DEHN MEN MEHNAT KE BAGHAIR KOI SHAY MILTI NAHIN DEHR MEN ZEHMAT KE BAGHAIR
आज के दौर का इंसान हुआ है ताजिर पूछता कोई नहीं फ़न को भी दौलत के बग़ैर AAJ KE DAUR KA INSAAN HUA HAI TAAJIR POOCHHTA KOI NAHIN FUN KO BHI DAULAT KE BAGHAIR
अब न इख़लास, न इख़लाक़, मोहब्बत है गुनाह अब तो एहबाब भी मिलते नहीं हाजत के बग़ैर AB NA IKHLAAS, NA IKHLAAQ, MOHABBAT HAI GUNAAH AB TO EHBAAB BHI MILTE NAHIN HAAJAT KE BAGHAIR
हसरतें घुटती रहीं, ज़िन्दगी ख़ूँ रोती रही क्या कहें कैसे जिये हम तेरी हसरत के बग़ैर HASRATEN GHUT' TI RAHI.N ZINDAGI KHOO.N ROTI RAHI KYA KAHEN KAISE JIYE HAM TERI CHAAHAT KE BAGHAIR
पूछ लें आप किसी से भी जो इस बस्ती में एक भी सांस अगर लेता हो दहशत के बग़ैर POOCHH LEN AAP KISI SE BHI JO IS BASTI MEN EK BHI SAANS AGAR LETA HO DEHSHAT KE BAGHAIR
तुझ से हस्ती है मेरी ज़ीस्त का हासिल तू है मैं कहाँ जाऊँ जहां में तेरी निस्बत के बग़ैर TUJH SE HASTI HAI MERI, ZEEST KA HAASIL TU HAI Main KAHAN JAAuN JAHAN MEN TERI NIS…