संदेश

December 19, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - जल्वा था कि इक तूर-ए-दरख़्शाँ था अयाँ

जल्वा था कि इक तूर-ए-दरख़्शाँ था अयाँ नज़रों को संभालें ये रहा होश कहाँ
JALWA THA KE IK TOOR E DARAKHSHAA'N THA AYAA'N NAZARO'N KO SAMBHAALE'N YE RAHA HOSH KAHA'N
हसरत न कोई ख़्वाब न अब दर्द-ए-निहाँ बाक़ी न रहा ज़ीस्त का कोई इमकाँ HASRAT NA KOI KHWAAB NA AB DARD E NIHAA'N BAAQI NA ZEEST KA KOI IMAKAA'N
इस राह से गुज़री थी वो ज़ौबार किरन हर नक़्श-ए-कफ़-ए-पा है अभी तक ताबाँ IS RAAH SE GUZRI THI WO ZOU BAAR KIRAN HAR NAQSH E KAF E PAA HAI ABHI TAK TAABA'N
उल्फ़त का गुज़र दिल के सियहख़ाने से ये ज़ीस्त की राहों में तजल्ली का गुमाँ ULFAT KA GUZAR DIL KE SIYAHKHAANE SE YE ZEEST KI RAAHO'N ME'N TAJALLI KA GUMAA'N
भीगी हुई रहती है सदा दिल की ज़मीं बारिश से धुला करता है हर दाग़ यहाँ BHEEGI HUI REHTI HAI SADAA DIL KI ZAMEE'N BAARISH SE DHULA KARTA HAI HAR DAAGH YAHA'N
ख़ुर्शीद की किरनों ने छुआ बढ़ के ज़रा बिखरी है समंदर की सतह पर अफ़शाँ KHURSHEED KI KIRNO'N NE CHHUAA BADH KE ZARA BIKHRI HAI SAMANDAR KI SATAH PAR AFSHAA'N
माज़ी के दरीचों से जो देखा हम ने हर सिम्त तबाही के नज़र…