संदेश

July 6, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - मोहब्बतों के देवता न अब मुझे तलाश कर

फ़ना हुईं वो हसरतें, वो दर्द खो चुका असर मोहब्बतों के देवता न अब मुझे तलाश कर
FANA HUIN WO HASRATE.N WO DARD KHO CHUKA ASAR MOHABBATO.N KE DEVTA NA AB MUJHE TALAASH KAR
भटक रही है गुफ़्तगू, समाअतें हैं मुंतशर न जाने किसकी खोज में है लम्हा लम्हा दर ब दर BHATAK RAHI HAI GUFTGU SAMAA'ATEN HAIN MUNTSHAR NA JAANE KIS KI KHOJ MEN HAI LAMHA LAMHA DAR BA DAR
ये ख़िल्वतें, ये तीरगी, ये शब है तेरी हमसफ़र इन आरज़ी ख़यालों के लरज़ते सायों से न डर YE KHILWATE.N, YE TEERGI, YE SHAB HAI TERI HAMSAFAR IN AARZI KHAYAALON KE LARAZTE SAAYON SE NA DAR
हयात-ए-बेपनाह पर हर इक इलाज बेअसर हैं वज्द में अलालतें, परेशाँ हाल चारागर HAYAAT E BEPANAAH PE HAR IK ILAAJ BE ASAR HAIN WAJD ME.N ALAALATEN PARESHA.N HAAL CHAARAGAR
बना है किस ख़मीर से अना का क़ीमती क़फ़स तड़प रही हैं राहतें, असीर हैं दिल-ओ-नज़र BANA HAI KIS KHAMEER SE ANAA KA QEEMTI QAFAS TADAP RAHI HAIN RAAHTE.N ASEER HAIN DIL O NAZAR
पड़ी है मुंह छुपाए अब हर एक तश्ना आरज़ू तो जुस्तजू भी थक गई, तमाम हो गया सफ़र PADI HAI MUNH CHHUPAAE AB HAR EK TASHNA AARZOO TO JUSTJU BHI THAK GAI T…