संदेश

November 22, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - शब का इक एक पल पिघलता है

शब का इक एक पल पिघलता है जब भी सूरज नया निकलता है
SHAB KA IK EK PAL PIGHALTA HAI JAB BHI SOORAJ NAYA NIKALTA HAI
जब भी माज़ी का जायज़ा लीजे ज़हन का कोना कोना जलता है JAB BHI MAAZI KA JAAIZA LIJE ZEHN KA KONA KONA JALTA HAI
मिलना अहबाब से तो दूर, अब तो ज़िक्र भी दोस्तों का खलता है MILNA EHBAAB SE TO DOOR, AB TO ZIKR BHI DOSTON KA KHALTA HAI
अब करें क्या हयात की सूरत ज़हन में इक सवाल उबलता है AB KAREN KYA HAYAAT KI SOORAT IK ZEHN MEN SAWAAL UBALTA HAI
वो मक़ाम आ गया जहाँ से अब अपना हर रास्ता बदलता है WO MAQAAM AA GAYA JAHAN SE AB APNA HAR RAASTA BADALTA HAI
हर ख़ुशी, हर तमन्ना, हर जज़्बा दिल को सूरत बदल के छलता है HAR KHUSHI, HAR TAMANNA, HAR JAZBA DIL KO SOORAT BADAL KE CHHALTA HAI
सिर्फ़ शम’अ नहीं अब इस घर में रात भर दिल भी साथ जलता है IK SHAMA'A HI NAHIN AB IS GHAR MEN RAAT BHAR DIL BHI SAATH JALTA HAI
बारहा टूट कर भी दिल वो है फिर धड़कता है, फिर मचलता है BAARHAA TOOT KAR BHI DIL WO HAI PHIR DHADAKTA HAI, PHIR MACHALTA HAI
कोई एहसास, न अरमाँ, न उम्मीद आज कल दिल में दर्द पलता है KOI EHSAAS NA ARMAA'N N…