संदेश

June 7, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - इक निवाला न गया दहन में मेहनत के बग़ैर

इक निवाला न गया दहन में मेहनत के बग़ैर कोई शय मिलती नहीं दहर में ज़हमत के बग़ैर  
IK NIWAALA NA GAYA DEHN MEN MEHNAT KE BAGHAIR KOI SHAY MILTI NAHIN DEHR MEN ZEHMAT KE BAGHAIR
आज के दौर का इंसान हुआ है ताजिर पूछता कोई नहीं फ़न को भी दौलत के बग़ैर AAJ KE DAUR KA INSAAN HUA HAI TAAJIR POOCHHTA KOI NAHIN FUN KO BHI DAULAT KE BAGHAIR
अब न इख़लास, न इख़लाक़, मोहब्बत है गुनाह अब तो एहबाब भी मिलते नहीं हाजत के बग़ैर AB NA IKHLAAS, NA IKHLAAQ, MOHABBAT HAI GUNAAH AB TO EHBAAB BHI MILTE NAHIN HAAJAT KE BAGHAIR
हसरतें घुटती रहीं, ज़िन्दगी ख़ूँ रोती रही क्या कहें कैसे जिये हम तेरी हसरत के बग़ैर HASRATEN GHUT' TI RAHI.N ZINDAGI KHOO.N ROTI RAHI KYA KAHEN KAISE JIYE HAM TERI CHAAHAT KE BAGHAIR
पूछ लें आप किसी से भी जो इस बस्ती में एक भी सांस अगर लेता हो दहशत के बग़ैर POOCHH LEN AAP KISI SE BHI JO IS BASTI MEN EK BHI SAANS AGAR LETA HO DEHSHAT KE BAGHAIR
तुझ से हस्ती है मेरी ज़ीस्त का हासिल तू है मैं कहाँ जाऊँ जहां में तेरी निस्बत के बग़ैर TUJH SE HASTI HAI MERI, ZEEST KA HAASIL TU HAI Main KAHAN JAAuN JAHAN MEN TERI NIS…