संदेश

May 17, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ग़ज़ल - दिलों के आईने टुकड़ों में बँट गए आख़िर

दिलों के आईने टुकड़ों में बँट गए आख़िर हम अपनी अपनी अना में सिमट गए आख़िर DILON KE AAINE TUKDON MEN BAT GAE AAKHIR HAM APNI APNI ANAA MEN SIMAT GAE AAKHIR
कहीं मिला न कोई जब निशान मंज़िल का तो आधी राह से वापस पलट गए आख़िर KAHIN MILA NA KOI JAB NISHAAN MANZIL KA TO AADHI RAAH SE WAAPAS PALAT GAE AAKHIR
तो फ़ैसला भी मुक़द्दर का कर दिया उसने गुमान के सभी बादल भी छंट गए आख़िर TO FAISLA BHI MUQADDAR KA KAR DIYA US NE GUMAAN KE SABHI BAADAL BHI CHHAT GAE AAKHIR
समा सका न ज़हन में ग़ुबार था इतना कोई तो ज़ब्त की हद थी कि फट गए आख़िर SAMAA SAKA NA ZEHN MEN GHUBAAR THA ITNA KOI TO ZABT KI HAD THI KE PHAT GAE AAKHIR
ख़ुशी की आख़िरी मंज़िल भी पार हो ही गई ग़ुबार से वो सभी ख़्वाब अट गए आख़िर KHUSHI KI AAKHIRI MANZIL BHI PAAR HO HI GAI GHUBAAR SE WO SABHI KHWAAB AT GAE AAKHIR
गुज़र के आए हैं माज़ी के खंडरों से अभी कि हम से यादों के साए लिपट गए आख़िर GUZAR KE AAE HAIN MAAZI KE KHANDARON SE ABHI KE HAM SE YAADON KE SAAE LIPAT GAE AAKHIR
ज़मीं अभी भी बहुत कम है नफ़रतों के लिए वफ़ा के सारे समंदर भी पट गए आख़िर ZAMEE.N ABHI BHI BAHOT KAM HA…