Posts

Showing posts from October 16, 2019

दो ख़याल

दो ख़याल 1- मोहब्बत एक नाज़ुक चीज़ है, मासूम जज़्बा है मोहब्बत दिल की धड़कन है, खुली आँखों का सपना है मोहब्बत से ये दुनिया है 2- मोहब्बत झूठ है, धोका है, शहवत है, छलावा है जला दे रूह तक को जो ये इक ऐसा शरारा है मोहब्बत सिर्फ़ फ़ितना है 1- जीने की ख़्वाहिश है तो इक बार मर कर देख ले देखनी हो जिस को जन्नत इश्क़ कर के देख ले 2- इश्क़ में जन्नत नहीं लाखों जहन्नम हैं निहाँ इश्क़ दे जाता है दिल पर ज़िंदगी भर को निशां 1- इश्क़ जब मेहरबान होता है सारा आलम जवान होता है कहकशाँ लगती है हर राहगुज़र पाँव में आसमान होता है 2- इश्क़ जब मेहरबान होता है दिल का दुश्मन जहान होता है शोले राहों में बिखर जाते हैं ख़त्म नाम-ओ-निशान होता है 1- दो दिन की ज़िन्दगानी बेकार न हो जाए इसे प्यार में बिता ले