ग़ज़ल - इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं

इस मुसाफ़त से हमें क्या है मिला याद नहीं
क्या मेरे पास है, क्या क्या है लुटा याद नहीं
IS MUSAAFAT SE HAMEN KYA HAI MILA YAAD NAHIN
KYA MERE PAAS HAI KYA KYA HAI LUTA YAAD NAHIN

जिस के होने से मेरी ज़ात में तुग़ियानी थी
अब तलक कौन मेरे साथ चला याद नहीं
JIS KE HONE SE MERI ZAAT MEN TUGHIYAANI THI
AB TALAK KAUN MERE SAATH CHALA YAAD NAHIN

हम कि राहों के मनाज़िर में हुए गुम ऐसे
कारवाँ जाने कहाँ जा के रुका याद नहीं
HAM TO RAAHON KE MANAAZIR MEN HUE GUM AISE
KAARWAA.N JAANE KAHAN JAA KE RUKA YAAD NAHIN

ये तो है याद कि दिल में थी बड़ी आग मगर
कब ये दिल सर्द हुआ, कब ये बुझा याद नहीं
YE TO HAI YAAD KE DIL MEN THI BADI AAG MAGAR
KAB YE DIL SARD HUA KAB YE BUJHA YAAD NAHIN

वहशतें ऐसी, कि ख़ुद से भी हेरासाँ हैं हम
बेख़ुदी ऐसी कि अपना भी पता याद नहीं
WAHSHATEN AISI KE KHUD SE BHI HERAASA.N HAIN HAM
BEKHUDI AISI KE APNA BHI PATA YAAD NAHIN

आग सी जलती रही दिल की सियाही में मगर
कौन इस आतिश-ए-दोज़ख़ में जला, याद नहीं
AAG SI JALTI RAHI DIL KI SIYAAHI MEN MAGAR
KAUN IS AATISH E DOZAKH MEN JALA YAAD NAHIN

दिल का ये शहर उजड़ जाने का एहसास तो है
हो गई कैसे क़यामत ये बपा याद नहीं
DIL KA YE SHEHR UJAD JAANE KA EHSAAS TO HAI
HO GAI KAISE QAYAAMAT YE BAPAA YAAD NAHIN

मैं ने मिट मिट के निबाहा है मोहब्बत का चलन
कौन कहता है मुझे रस्म-ए-वफ़ा याद नहीं
MAIN NE MIT MIT KE NIBAAHA HAI MOHABBAT KA CHALAN
KAUN KEHTA HAI MUJHE RASM E WAFA YAAD NAHIN

क़र्ज़ मुमताज़ था साँसों का हमारे सर पर
क़र्ज़ कैसे ये किया हम ने अदा याद नहीं
QARZ 'MUMTAZ' THA SAANSON KA HAMAARE SAR PAR
QARZ KAISE YE KIYA HAM NE ADAA YAAD NAHIN


तुग़ियानी लहरों का उतार चढ़ाव, मनाज़िर दृश्य, वहशत घबराहट, हेरासाँ डरा हुआ, बेख़ुदी अपने आप में न होना, सियाही अंधेरा, आतिश-ए-दोज़ख़ नर्क की आग

टिप्पणियाँ

  1. wah wah wah wah bahut hi achhi ghazal hai. Save kar li gayi hai ta der litf uthane ke liye. Har sher achha hai. Bekhudi bhi kuch halaat mei'n qudrat ki rahmat se kam nahi. Behad shukriya !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मतला और मकता दोनों ज़बरदस्त. पर यह शेर तो इतना मारक है:

    YE TO HAI YAAD KE DIL MEN THI BADI AAG MAGAR
    KAB YE DIL SARD HUA KAB YE BUJHA YAAD NAHIN

    उत्तर देंहटाएं
  3. Mayland wakai main lajawab hai .sheer bhi bahot khoob hai

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया