तेरी लगन लगी

ऐ इश्क़ तेरी अंगड़ाई से
दिल चाक हुआ परवाने का
कुछ ऐसी बढ़ी लौ शमअ का
दिल ख़ाक हुआ परवाने का
तेरी लगन लगी
वो अगन लगी
मेरा रोम रोम जपे नाम तेरा
हर साँस में तेरा डेरा

मेरा दिल दीवाना तेरा 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया