जब भी चाहा तो अज़ाबों का भरम तोड़ दिया

जब भी चाहा तो अज़ाबों का भरम तोड़ दिया
एक ही लम्हे ने तक़दीर का रुख़ मोड दिया

बैठे बैठे कभी हर ख़्वाब-ए-हसीं तोड़ दिया
दिल के टूटे हुए टुकड़ों को कभी जोड़ दिया

रतजगे चुभने लगे जब मेरी इन आँखों में

मैं ने रातों के अँधेरों को कहीं छोड़ दिया 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कभी रुके तो कभी उठ के बेक़रार चले

ग़ज़ल - कभी चेहरा ये मेरा जाना पहचाना भी होता था

मेरे महबूब