ग़ज़ल - रातों की सियाही पीने को ऐ काश कोई मेहताब तो हो

रातों की सियाही पीने को ऐ काश कोई मेहताब तो हो
साँसें हैं तो जीना पड़ता है, जीने के लिए इक ख़्वाब तो हो
RAATO.N KI SIYAAHI PEENE KO AYE KAASH KOI MEHTAAB TO HO
SAANSE.N HAIN TO JEENA PADTA HAI JEENE KE LIYE IK KHWAAB TO HO

आहट न कोई आवाज़ है अब ख़ामोश है अब तो रूह तलक
ये तार-ए-नफ़स गा उठ्ठेगा, हाथों में कोई मिज़राब तो हो
AAHAT NA KOI AAWAAZ HAI AB, KHAAMOSH HAI AB TO ROOH TALAK
YE TAAR E NAFAS GAA UTTHEGA HAATHO.N ME.N KOI MIZRAAB TO HO

आएगा मज़ा क्या ख़ाक यहाँ उस पार उतरने का यारो
कश्ती को डुबोने की ख़ातिर बेताब कोई गिर्दाब तो हो
AAEGA MAZAA KYA KHAAK YAHA.N US PAAR UTARNE KAA YAARO
KASHTI KO DUBONE KI KHAATIR BETAAB KOI GIRDAAB TO HO

बस साँस ही लेने को साहब जीना तो नहीं कह सकते हैं
सीने में ख़लिश तो लाज़िम है, आँखों में ज़रा सा आब तो हो
BAS SAANS HI LENE KO SAAHAB JEENA TO NAHIN KEH SAKTE HAIN
SEENE ME.N KHALISH BHI LAAZIM HAI AANKHO.N ME.N ZARA SA AAB TO HO

अब इश्क़ नहीं हम को उससे, हम से है अबस ये उसका गिला
हम जान निछावर कर देंगे उस में वो सिफ़त नायाब तो हो
AB ISHQ NAHIN HAM KO US SE HAM SE HAI ABAS YE US KA GILAA
HAM JAAN NICHHAAWAR KAR DENGE US ME.N WO SIFAT NAAYAAB TO HO

बेजाँ है दिल-ए-वहशी की फ़ज़ा, क्या ख़ाक मज़ा फिर वस्ल में हो?
हर लम्स में रक़्साँ हो जाए, हस्ती में भरा सीमाब तो हो
BEJAA.N HAI DIL E WAHSHI KI FAZAA KYA KHAAK MAZA PHIR WASL ME.N HO
HAR LAMS SE RAQSAA.N HO JAAE HASTI ME.N BHARA SEEMAAB TO HO

आवाज़ हमें दी थी तूने फिर बंद है अपने आप में क्यूँ
दर पर तो तेरे हम आ पहुंचे, लेकिन वा कोई बाब तो हो
AAWAAZ HAME.N DI THI TU NE, PHIR BAND HAI APNE AAP ME.N KYU.N
DAR PAR TO TERE HAM AA PAHUNCHE LEKIN WAA KOI BAAB TO HO

हो जाए न जल कर ख़ाक कहीं बीनाई तेरी इन आँखों की
रख दीद की ख़्वाहिश दिल में मगर आँखों में इतनी ताब तो हो
HO JAAE NA JAL KAR KHAAK KAHI.N BEENAAI TERI IN AANKHO.N KI
RAKH DEED KI KHWAAHISH DIL ME.N MAGAR AANKHO.N ME.N ITNI TAAB TO HO

हस्ती में तलातुम लाखों हैं लेकिन वो तड़प नायाब हुई
मुमताज़ तड़पने की ख़ातिर सीने में दिल-ए-बेताब तो हो
HASTI ME.N TALAATUM LAAKHO.N HAI.N LEKIN WO TADAP NAAYAAB HUI
'MUMTAZ' TADAPNE KI KHAATIR SEENE ME.N DIL E BETAAB TO HO


तार-ए-नफ़स साँस का तार, मिज़राब किसी साज़ को छेडने का आला, गिर्दाब भँवर, अबस बेकार, सिफ़त ख़ासियत, नायाब कहीं न मिलने वाला, लम्स स्पर्श, रक़्साँ हो जाए नाच उठे, सीमाब पारा, वा खुला हुआ, बाब दरवाज़ा, बीनाई देखने की क्षमता, ताब ताक़त, तलातुम तूफ़ान

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया