गीत – दर्द के दीप जले

दर्द के दीप जले
हमसफ़र छोड़ चले
हम को जीना है मगर
जब तलक साँस चले

वक़्त की धूप कि ढलती जाए
ज़िन्दगी है कि पिघलती जाए
कोई साथी, न सहारा, न सुराग़
और ये राह कि चलती जाए
कैसे तय हो ये सफ़र
कब तलक कोई चले

कोई जीवन का ठिकाना भी नहीं
अब वो पहला सा ज़माना भी नहीं
कोई जीने का बहाना भी नहीं
अब तो वो दर्द पुराना भी नहीं
आस आँखों से बहे
मिले राहों से गले

नींद भी दूर मेरी आँखों से
चाँद भी दूर मेरी रातों से
मेरी मेहमान है अब तारीकी
और शनासाई है सन्नाटों से
रौशनी होती नहीं
कितनी भी रूह जले


तारीकी अँधेरा, शनासाई पहचान 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया