ग़ज़ल - हम ने उस के दर से तोहफ़े पाए क्या क्या बेमिसाल

हम ने उस के दर से तोहफ़े पाए क्या क्या बेमिसाल
बेकराँ रातें हैं पाई,     दर्द पाया लाज़वाल
 HAM NE US KE DAR SE TOHFE PAAE KYA KYA BEMISAAL
BEKARAAN RAATEN HAIN PAAIN DARD PAAYA LAAZAWAAL

बारहा यूँ मात खाई है बिसात-ए-ज़ीस्त पर
हम समझ पाए कहाँ क़िस्मत की हर पोशीदा चाल
BAARAHA YUN MAAT KHAAI HAI BISAAT E ZEEST PAR
HAM SAMAJH PAAE KAHAN YE WAQT KI POSHIDA CHAAL

रख दिया उसने मसल के दिल का इक इक ज़ाविया
रात उस बेदर्द से हमने किया था इक सवाल
RAKH DIYA US NE MASAL KE DIL KA IK IK ZAAVIYAA
RAAT US BEDARD SE HAM NE KIYA THA IK SAWAAL

जाने किन राहों से हो कर गुज़रा था ये क़ाफ़िला
है शिकस्ता हर तमन्ना आज ज़ख़्मी है ख़याल
JAANE KIN RAAHON SE HO KAR GUZRA THA YE QAAFILAA
HAI SHIKASTA HAR TAMANNA AAJ ZAKHMEE HAI KHAYAAL

हम ने बढ़ कर जान से महफ़ूज़ रक्खा था तो फिर
इश्क़ के इस आईने में आ गया कैसे ये बाल
HAM NE BADH KE JAAN SE MEHFOOZ RAKHA THA TO PHIR
ISHQ KE IS AAINE MEN AA GAYA KAISE YE BAAL

सामने है पै ब पै बरबादियों का सिलसिला
जाने क्या अंजाम होगा आरज़ू का अबके साल
SAAMNE HAI PAI BA PAI BARBAADIYON KA SILSILA
JAANE KYA ANJAAM HOGA AARZOO KA AB KE SAAL

हौसला है तो तुझे क्या रोक पाएगी ये हार
ऊँची कर परवाज़ थोड़ी, आज ज़ख़्मी पर सँभाल
HAUSLA HAI TO TUJHE KYA ROK PAAEGI YE HAAR
OONCHI KAR PARWAAZ THODI AAJ ZAKHMEE PAR SAMBHAAL

कब से है बीनाई को उस एक जल्वे की तलब
कोई तो मुमताज़ उसकी दीद की सूरत निकाल
KAB SE HAI BEENAAI KO US EK JALWE KI TALAB
KOI TO MUMTAZ US KI DEED KI SOORAT NIKAAL


बेकराँ अनंत, लाज़वाल न खत्म होने वाला, बारहा बार बार, ज़ीस्त ज़िन्दगी, पोशीदा गुप्त, ज़ाविया पहलू, शिकस्ता टूटा या थका हुआ, महफ़ूज़ सुरक्षित, पै ब पै क़दम क़दम पर, परवाज़ उड़ान, बीनाई दृष्टि, दीद दर्शन 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया