एक सवाल

तुम्हारे दिल में हम लोगों की ख़ातिर क्यूँ ये नफ़रत है
मुझे अपने वतन के चंद लोगों से शिकायत है

ये तुम हो, तुम ने हम को आज तक बस ग़ैर जाना है
ये हम हैं, हम ने इस हिन्दोस्ताँ को अपना माना है
अगर ये सच न होता, तो भला हम क्यूँ यहाँ होते
हम अपने खून की बूंदों की क्यूँ फ़सलें यहाँ बोते
वो जिस ने एक दिन कुनबे के कुनबे काट डाले थे
ज़मीं के साथ ज़हन ओ दिल भी जिस ने बाँट डाले थे
ये वहशी साज़िश ए दौरान हम ने तो नहीं की थी
कि वो तक़सीम ए हिन्दुस्तान हम ने तो नहीं कि थी
हुकूमत के वो भूके भेड़िये, इंसान के क़ातिल
फिरंगी साज़िशों में थे हमारे रहनुमा शामिल
वो इक काला वरक़ तारीख़ का क्या दे गया हम को
तअस्सुब, खौफ़, दिल शिकनी का साया दे गया हम को
बहा जो खून ए नाहक़, था तुम्हारा भी, हमारा भी
लुटा था कारवां दिल का, तुम्हारा भी, हमारा भी
मसाइब फ़िरक़ा वाराना, गुनह था चंद लोगों का
जो था अम्बार लाशों का, तुम्हारा था, हमारा था
हुए थे घर से बेघर जो, वो तुम जो थे, तो हम भी थे
फिरंगी साज़िशें जीती थीं, हिन्दुस्तान हारा था
तो फिर ये ज़ुल्म कैसा है, कि मुजरिम हम ही क्यूँ ठहरे
तबाही की हर इक साज़िश के मुल्ज़िम हम ही क्यूँ ठहरे
हमारी ज़ात पर अब तक उसी वहशत का साया है
हमारा खून तब से आज तक बहता ही आया है
हमारी मुफ़लिसी उस जुर्म का तावान भरती है
हमारी लाश पर नंगी सियासत रक्स करती है
ग़लत इलज़ाम अब तक सर पे ढोए जा रहे हैं हम
किया ही जो नहीं उस की सज़ा भी पा रहे हैं हम

तुम्हारे दिल में हम लोगों की ख़ातिर क्यूँ ये नफ़रत है
मुझे अपने वतन के चंद लोगों से शिकायत है

वहशी-जंगली, साज़िश ए दौरान-वक़्त की साज़िश, तक़सीम-बंटवारा, वरक़-पन्ना, तारीख़-इतिहास, तअस्सुब-तरफदारी, खौफ़-डर, दिल शिकनी-दिल तोडना, मसाइब फ़िरक़ा वाराना-जातीय दंगे, मुफ़लिसी-गरीबी, तावान-जुर्माना, सियासत-राजनीति, रक्स करती है-नाचती है  

Comments

Popular posts from this blog

चलन ज़माने के ऐ यार इख़्तियार न कर

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे

हमारे बीच पहले एक याराना भी होता था