दुपट्टा मेरा

आज मैं ने टी वी पर देखा, एक नीम उरियाँ नाज़नीन लहरा लहरा कर गा रही थी, "इन्हीं लोगों ने लई लीन्हा दुपट्टा मेरा". ये सुन कर मेरे ज़हन में चाँद सवालात ने शोर मचाया। बराए मेहरबानी किसी के पास इन सवालों के जवाब हों तो मुझे ज़रूर बताएं.....
1. इस लड़की को शॉर्ट्स के साथ दुपट्टा पहनने की ज़रुरत क्यूँ पड़ी, क्या ये कोई नया फैशन है???? मुझे लगता है कि शायद इसी लिए सिपहिया ने उस का दुपट्टा छीन लिया
2. जब बाज़ार में सिले सिलाए कपडे इफरात में मिल रहे हैं तो इस को दुपट्टे से बदन ढकने की ज़रुरत क्यूँ पड़ी, दुपट्टा तो दुपट्टा है, सिपहिया न छीनता तो हवा में भी तो उड़ सकता था।
3. दुपट्टे के छिन जाने का ऐलान करने के लिए नाचना ज़रूरी था क्या????
4. वो लडकियाँ जो उस के साथ नाच रही थीं, उन का दुपट्टा भी छिन गया था क्या, या सिर्फ इस लड़की को तसल्ली देने के लिए वो इसके साथ नाच रही थीं???
5. ये लड़की हमें बेवक़ूफ़ बना रही है क्या, क्यूँ कि जिन बजजवा, रंगरेजवा और सिपहिया ने उस का दुपट्टा छीना, उन्हें ही गवाह क्यूँ बनाना चाहती हैभला वो अपने गुनाह का इक़रार क्यूँ करेंगे ???
अरे कोई तो समझाओ इसको......


नीम उरियाँ अर्द्धनग्न 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया