ग़ज़ल - वफ़ा के अहदनामे में हिसाब ए जिस्म ओ जाँ क्यूँ हो


वफ़ा  के  अहदनामे  में  हिसाब  ए  जिस्म  ओ  जाँ क्यूँ  हो
बिसात  ए  इश्क़  में  अंदाज़ा  ए  सूद  ओ  ज़ियाँ क्यूँ  हो

मेरी  परवाज़  को  क्या  क़ैद  कर  पाएगी  हद  कोई
बंधा  हो  जो  किसी  हद  में  वो  मेरा  आसमाँ  क्यूँ  हो

सहीफ़ा  हो  के  आयत  हो  हरम  हो  या  सनम  कोई
कोई  दीवार  हाइल  मेरे  उस  के  दर्मियाँ  क्यूँ  हो

तअस्सुब  का  दिलों  की  सल्तनत  में  काम  ही  क्या  है
मोहब्बत  की  ज़मीं  पर  फितनासाज़ी हुक्मराँ क्यूँ  हो

सरापा  आज़माइश  तू  सरापा  हूँ  गुज़ारिश  मैं
तेरी  महफ़िल  में  आख़िर  बंद  मेरी  ही  जुबां  क्यूँ  हो

जहान ए  ज़िन्दगी  से  ग़म  का  हर  नक़्शा  मिटाना  है
ख़ुशी  महदूद  है, फिर  ग़म  ही  आख़िर  बेकराँ  क्यूँ  हो

ये  है  सय्याद  की  साज़िश  वगरना  क्या  ज़रूरी  है
गिरी  है  जिस  पे  कल  बिजली  वो  मेरा  आशियाँ  क्यूँ  हो

हमें  हक़  है  के  हम  ख़ुद को  किसी  भी  शक्ल  में  ढालें
हमारी  ज़ात  से  'मुमताज़' कोई  बदगुमाँ क्यूँ  हो


wafaa ke ehdnaame men hisaab e jism o jaaN kyun ho
bisaat e ishq men andaaza e sood o ziyaaN kyun ho

meri parwaaz ko kya qaid kar paaegi had koi
bandhaa ho jo kisi had meN wo mera aasmaaN kyun ho

saheefa ho ke aayat hoharam ho ya sanam koi
koi deewaar haail mere us ke darmiyaaN kyuN ho

taassub ka diloN ki saltanat meN kaam hi kya hai
mohabbat ki zameeN par fitnasaazi hukmraaN kyuN ho

saraapa aazmaaish tu saraapa hoon guzaarish maiN
teri mehfil meN aakhir band meri hi zubaaN kyuN ho

jahaan e zindagi se gham ka har naqsha mitaana hai
khushi mehdood hai to gham hi aakhir bekaraaN kyuN ho

ye hai sayyad ki saazish wagarna kya zaroori hai
giri hai jis pe kal bijli wo mera aashiyaaN kyuN ho

hameN haq hai ke ham khud ko kisi bhi shakl meN dhaaleN
hamaari zaat se 'Mumtaz' koi badgumaaN kyun ho

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया