ग़ज़ल - झूटी बातों पर रोया सच


झूटी  बातों  पर  रोया  सच
हर  बाज़ी  में  जब  हारा  सच

कुछ  तो  मुलम्मा  इस  पे  चढाओ
बेक़ीमत  है  ये  सादा  सच

झूट  ने  जब  से  पहनी  सफेदी
छुपता  फिरता  है  काला  सच

अब  है  हुकूमत  झूट  की  लोगो
दर  दर  भटके  बंजारा  सच

सच  सुनने  की  ताब  न  थी  तो
क्यूँ  आख़िर  तुम  ने  पूछा  सच

बन  जाए  जो  वजह  ए तबाही
"बेमक़सद  है  फिर  ऐसा  सच"

मिसरा  क्या  "मुमताज़ " मिला  है
हम  ने  लफ़्ज़ों  में  ढाला  सच


jhooti baatoN par roya sach
har baazi meN jab haara sach

kuchh to mulamma is pe chadhaao
beqeemat hai ye saada sach

jhoot ne jab se pahni safedi
chhupta phirta hai kalaa sach

ab hai hukoomat jhoot ki logo
dar dar bhatke banjaara sach

sach sunne ki taab na thi to
kyuN aakhir tum ne poochha sach

ban jaae jo wajh e tabaahi
"bemaqsad hai phir aisa sach"

misra kya "Mumtaz" mila hai
ham ne lafzoN meN dhaala sach

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया