ग़ज़ल - भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

भड़कना, कांपना, शो'ले  उगलना  सीख  जाएगा
चराग़ ए  रहगुज़र  तूफाँ में  जलना  सीख  जाएगा

नया  शौक़  ए  सियासत  है, ज़रा  कुछ  दिन  गुज़रने  दो
हमारा रहनुमा नज़रें  बदलना  सीख  जाएगा

अभी  एहसास  की  शिद्दत  ज़रा  तपाएगी  दिल  को
अभी  टूटी  है  हसरत, हाथ  मलना  सीख  जाएगा

हर  इक  अरमान  को  मंज़िल  मिले  ये  क्या  ज़रूरी  है
उम्मीदों  से  भी  दिल  आख़िर  बहलना  सीख  जाएगा

शनासा  रफ़्ता  रफ़्ता  मसलेहत  से  होता  जाएगा
ये  दिल  फिर  आरज़ूओं  को  कुचलना  सीख  जाएगा

छुपा  है  दिल  में  जो  आतिश फ़िशां , इक  दिन  तो  फूटेगा
रुको  "मुमताज़" ये  लावा  उबलना  सीख  जाएगा


bhadakna, kaanpna, sho'le ubalna seekh jaaega
charaaghe rehguzar toofaaN meN jalna seekh jaaega

naya shauq e siyaasat hai, zara kuchh din guzarne do
hamaara rahnuma nazreN badalna seekh jaaega

abhi ehsaas ki shiddat zara tadpaaegi dil ko
abhi tooti hai hasrat, haath malna seekh jaaega

har ik armaan ko manzil mile ye kya zaroori hai
ummeedoN se bhi dil aakhir bahalna seekh jaaega

shanaasa rafta rafta maslehat se hota jaaega
ye dil phir aarzoo'on ko kuchalna seekh jaaega

chhupa hai dil meN jo aatishfishaaN, ik din to phootega

ruko "Mumtaz" ye laava ubalna seekh jaaega

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया