ग़ज़ल - दिल की बातें यूँ भी समझो

चेहरा पढ़ लो, लहजा देखो
दिल की बातें यूँ भी समझो  
CHEHRA PADH LO LEHJA DEKHO
DIL KI BAATEN YUN BHI SAMJHO

फिर खोलो यादों की परतें
दिल के सारे ज़ख़्म कुरेदो
PHIR KHOLO YAADON KI PARTEN
DIL KE SAARE ZAKHM KUREDO

अब कुछ दिन जीने दो मुझ को
ऐ दिल की बेजान ख़राशो
AB KUCHH DIN JEENE DO MUJH KO
AEY DIL KI BEJAAN KHARAASHO

रंजिश की लौ माँद हुई है
फिर कोई इल्ज़ाम तराशो
RANJISH KI LAU MAAND HUI HAI
PHIR KOI ILZAAM TARAASHO

सुलगा दो हस्ती का जंगल
जलते हुए बेचैन उजालो
SULGAA DO HASTI KA JUNGLE
JALTE HUE BECHAIN UJAALO

दर्द तुम्हारा भी देखूँगी
दम तो लो ऐ पाँव के छालो
DARD TUMHARA BHI DEKHUNGI
DAM TO LO AYE PAANV KE CHHALO

ख़त्म हुई हर एक बलन्दी
ऐ मेरी बेबाक उड़ानो
KHATM HUI HAR EK BALANDI
AYE MERI BEBAAK UDAANO

तंग दिलों की इस बस्ती में
उल्फ़त की ख़ैरात न मांगो
TANG DILON KI IS BASTI MEN
ULFAT KI KHAIRAAT NA MAANGO

मग़रूरीयत के पैकर पर
मजबूरी के ज़ख़्म भी देखो
MAGHROOREEAT KE PAIKAR PE
MAJBOORI KE ZAKHM BHI DEKHO

हर्फ़ को सच्चा मानी दे कर
लफ़्ज़ों का एहसान उतारो
HARF KO SACHCHA MAANI DE KAR
LAFZON KA EHSAAN UTAARO

थोड़ा तो आराम अता हो
ऐ मेरे मुमताज़ इरादो
THODA TO AARAAM ATAA HO
AYE MERE 'MUMTAZ' IRAADO

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर तरफ़ वीरानियाँ, हर तरफ़ तारीक रात

ग़ज़ल - करो कुछ तो हँसने हँसाने की बातें

ग़ज़ल - जब निगाहों में कोई मंज़र पुराना आ गया