अजनबी एहसास


है रात गुलाबी, सर्द हवा
बेदार1 हुआ है एक फुसूँ2
बेचैन पलों के नरग़े3 में
मैं तनहा तनहा बैठी हूँ
है ज़हन परेशाँ, बेकल दिल
क्या जाने ये कैसी उलझन है
खोई हूँ न जाने किस धुन में
बस, जागते में भी सोई हूँ
वीरान फ़ज़ा-ए-ज़हन में फिर
आहट ये किसी की आती है
रह रह के मुझे चौंकाती है
रह रह के मुझे तडपाती है
रह रह के तरब4 के कानों में
आती है न जाने किस की सदा
अब आग लगी
अब सर्द हुई
वो आस जली
वो दर्द बुझा

कुछ यादें हैं 
कुछ साए हैं
कुछ बोलती सी तस्वीरें हैं
कुछ अनजाने से बंधन हैं 
कुछ अनदेखी ज़ंजीरें हैं 

तन्हाई के नाज़ुक रेशम से
तख़'ईल5 शरारे6 बुनती है
कुछ गर्म तसव्वर लिखती है
कुछ नर्म इशारे बुनती है

होंटों प कभी खिंच जाती है
इक नर्म तबस्सुम7 की रेखा
उंगली से ज़मीं पर खींचूँ कभी
अनबोले तकल्लुम8 की रेखा
आँखों में कभी जुगनू चमकें
पलकों प कभी शबनम महके
जब याद की कलियाँ खिल जाएं 
इक कर्ब9 जले
इक ग़म महके

वो दूर उफ़क़10 की वादी में 
सूरज ने बिखेरी है अफ़्शां11
इस छेड़ से क्यूँ शरमाई शफ़क़12
सिन्दूरी हुआ क्यूँ अब्र-ए-रवां13 

बेदार हुए अरमान कई
बेदार हुई दिल की धड़कन
ये आज हुई है कैसी सहर
है दिल की फ़ज़ा रौशन रौशन
1- जाग उठा, 2- जादू, 3- घेरे में, 4- ख़ुशी, 5- ख़याल, 6- चिंगारी, 7- मुस्कराहट, 8- बात चीत, 9- दर्द, 10- क्षितिज, 11- सोने चांदी का बुरादा या मुकेश, 12- सुबह की लाली, 13- उड़ता हुआ बादल

hai raat gulaabi, sard hawaa
bedaar hua hai ek fusooN
bechain paloN ke narghe meN
maiN tanhaa tanhaa baithi hooN
hai zehn pareshaaN, bekal dil
kya jaane ye kaisi uljhan hai
khoi hooN na jaane kis dhun meN
bas, jaagte meN bhi soi hooN
veeraan fazaa e zehn meN phir
aahat ye kisi ki aati hai
reh reh ke mujhe chaunkaati hai
reh reh ke mujhe tadpaati hai
reh reh ke tarab ke kaanoN meN
aati hai na jaane kis ki sadaa
ab aag lagi
ab sard hui
wo aas jali
wo dard bujhaa

kuchh yaadeN haiN
kuchh saae haiN
kuchh bolti si tasweereN haiN
kuchh anjaane se bandhan haiN
kuchh andekhi zanjeereN haiN

tanhaai ke naazuk resham se
takh'eel sharaare bunti hai
kuchh garm tasawwar likhti hai
kuchh narm ishaare bunti hai

hontoN pa kabhi khinch jaati hai
ik narm tabassum ki rekha
ungli se zameeN par kheenchooN kabhi
anbole takallum ki rekha
aankhoN meN kabhi jugnu chamkeN
palkoN pa kabhi shabnam mahke
jab yaad ki kaliyaaN khil jaaeN
ik karb jale
ik gham mahke

wo door ufaq ki waadi meN
sooraj ne bikheri hai afshaaN
is chhed se kyuN sharmaai shafaq
sindoori hua kyuN abr e rawaaN

bedaar hue armaan kai
bedaar hui dil ki dhadkan
ye aaj hui hai kaisi sahr
hai dil ki fazaa raushan raushan

Comments

Popular posts from this blog

फ़र्श था मख़मल का, लेकिन तीलियाँ फ़ौलाद की

भड़कना, कांपना, शो'ले उगलना सीख जाएगा

किरदार-ए-फ़न, उलूम के पैकर भी आयेंगे